बिहार भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने महागठबंधन पर कसा तंज, कहा राजद ने सहयोगी दलों को दरकिनार कर ठिकाने लगा दिया है

बिहार भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने महागठबंधन पर कसा तंज, कहा राजद ने सहयोगी दलों को दरकिनार कर ठिकाने लगा दिया है

PATNA : बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉo निखिल आनंद ने रालोसपा, हम और वीआईपी पार्टी के नेताओं की अलग संयुक्त बैठक पर कहा कि ये तीनों दल महागंठबंधन के भीतर उपेक्षित और घुटन महसूस कर रहे हैं. हाल की राजनीति में देखें तो महागठबंधन के किसी भी दल के बीच को-ऑर्डिनेशन का अभाव दिखता है. हकीकत में राजद ने सभी सहयोगी दलों की दरकिनार कर ठिकाने लगा दिया है. 

बिहार में कांग्रेस सहित इन तीनों दलों- रालोसपा, हम, वीआईपी के नेताओं की हैसियत राजद के युवराज तेजस्वी यादव के पालकी ढोने वाले की हो गई है. राजद की पालकी ढोते- ढोते परेशान लोगों ने बैठक की है जिसमें जल्द ही कांग्रेस भी पनाह लेने अगली बैठक में पहुँचेगी. वैसे भी रालोसपा, हम, वीआईपी की यह बैठक कांग्रेस के ही इशारे पर हो रही है. इस चारो दलों की दिक्कत यह है कि तेजस्वी की पालकी ढोकर, दाना- पानी- मेहनताना के लिए पूछ तो दूर की बात पिछलग्गू बनने पर मजबूर हैं. 

निखिल आनंद ने महागठबंधन दलों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि, “दिलचस्प तो यह है कि महागठबंधन में सभी अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बने हुए हैं. कांग्रेस देश की 135 साल पुरानी पार्टी हैजिसका अपना हवा- हवाई इगो है, जीतनराम माँझी पूर्व मुख्यमंत्री हैं, उपेन्द्र कुशवाहा मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं, मुकेश साहनी स्वयंभू नेता हैं और तेजस्वी यादव राजद के खानदानी युवराज हैं. 

अब ऐसे में महागठबंधन की स्थिति ईंट- रोड़ा जोड़कर भानुमति के कुनबे की तरह है. जाहिर है कि तेजस्वी की पालकी मुफ्त में नहीं ढोना चाहते रालोसपा- हम- वीआईपी- कांग्रेस नेता तो अलग बैठक कर एक दुसरे का दुख साझा कर रहे हैं. 

पटना से विवेकानंद की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News