BIHAR CRIME: मारपीट के मामले में केस करना पड़ा भारी, दूसरे पक्ष ने हमला कर फोड़ा सर, पुलिस की लचर कार्रवाई से बढ़ा अविश्वास

BIHAR CRIME: मारपीट के मामले में केस करना पड़ा भारी, दूसरे पक्ष ने हमला कर फोड़ा सर, पुलिस की लचर कार्रवाई से बढ़ा अविश्वास

BAGAHA: पुलिस जिला के लौकरिया थाना में विगत 21 सितंबर को मारपीट की एक घटना हुई थी। जिसमें घायल का इलाज अनुमंडलीय अस्पताल में हुआ था। हालांकि पीड़ित का आवेदन पड़ने से पूर्व ही दूसरे पक्ष का आवेदन थाना में दे दिया गया था। लेकिन, मामले की गंभीरता व मानवीय संवेदना का परिचय देते हुए लौकरिया पुलिस ने उसके आवेदन पर प्राथमिकी दर्ज नहीं किया। जबकि अस्पताल में पुलिस के समक्ष हुए फर्द बयान के आधार पर पहला केस पीड़ित पक्ष का दर्ज करते हुए लौकरिया पुलिस ने काउंटर केस दर्ज कर लिया। 

इस बीच पुलिसिया जांच में हुई देरी के कारण विभिन्न माध्यमों से पीड़ित पक्ष पर सुलह का दबाव बनाने का प्रयास प्रारंभ कर दिया गया। जबकि पीड़ित पक्ष ने साफ शब्दों में सुलह से इंकार कर दिया। जिसके बाद आरोपियों ने साम-दाम-दंड-भेद की नीति अपनाते हुए पीड़ित पक्ष को धमकाना शुरू कर दिया है। इधर सुपरविजन के नाम पर पुलिस अपना काम तो कर लिया, लेकिन कार्रवाई के नाम पर अब तक उपलब्धि सिफर है। हरनाटांड़ निवासी पीड़ित लकी गुप्ता ने बताया कि विपक्षी हीरा प्रसाद गुप्ता द्वारा उसके उपर धारदार हथियार से जानलेवा प्रहार किया गया। जिससे उसके माथे में गहरै जख्म हो गया। जख्म इतना गहरा था कि हरनाटांड़ में उसका प्राथमिक उपचार भी ठीक से नहीं हो सका व मामले की गंभीरता को देखते हुए उसको तत्काल रेफर कर दिया गया। जिसको अनुमंडलीय अस्पताल में लाकर भर्ती करना पड़ा। ड्यूटी में तैनात चिकित्सक भी मामले की गंभीरता को देखते हुए पहले पुलिस को बुलाकर फर्द बयान लेना मुनासिब समझा। लकी ने बताया कि थाना से लेकर रामनगर तक विभिन्न पुलिस पदाधिकारियों द्वारा सुपरविजन तो किया गया, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने से आरोपियों का हौसला बुलंद है। इधर पीड़ित पर भी कई प्रकार से दबाव बनाकर सुलह करने का प्रयास किया जा रहा है। मामले में रविवार को एसपी किरण कुमार गोरख जाधव ने रामनगर डीएसपी सत्य नारायण राम को निर्देश देते हुए त्वरित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

इस संबंध में बात करने पर लौकरिया थानाध्यक्ष राजकुमार ने बताया कि एफआईआर की पुरी रिपोर्ट इंस्पेक्टर साहब रामनगर को सबमिट कर दी गई है।उनके द्वारा मामले की जांच की जा रही है। आगे की कार्रवाई उनके दिशा निर्देश पर की जायेगी। वही इस संबंध में रामनगर इंस्पेक्टर संजय सुमन से बात करने पर उनके द्वारा बताया गया कि मामले की जांच कर ली गई है ।इंजरी रिपोर्ट देखना बाकी है। इंजरी रिपोर्ट देखने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

वहीं मारपीट में घायल लकी कुमार गुप्ता का कहना था कि बीते 11 अक्टूबर को मैं रामनगर जाकर इंस्पेक्टर साहब से न्याय का गुहार लगाया। उस समय साहब के द्वारा बताया गया कि तुम्हारा इंजरी रिपोर्ट आ गया है। देख कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। उसने आगे बताया गया कि पुलिसिया कार्रवाई नहीं होने के कारण आरोपियों के द्वारा बाजार में घूम घूम कर धमकी दी जा रही है कि केस उठा ले नहीं तो इससे भी बुरा अंजाम होगा। मेरा पूरा परिवार डरा सहमा है तथा हम लोग न्याय के लिए दर-दर  गुहार लगा रहे हैं मगर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।

Find Us on Facebook

Trending News