BIHAR CRIME: आर्म्स एक्ट मामले में पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह, IG ने मामले को लेकर दिए CID जांच के आदेश

BIHAR CRIME: आर्म्स एक्ट मामले में पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह, IG ने मामले को लेकर दिए CID जांच के आदेश

GAYA: शहर के मगध मेडिकल थाना क्षेत्र के काजीचक मोहल्ला में विगत 19 जुलाई की रात्रि बिहारी रेस्टोरेंट ढाबा पर छापामारी की गई। इस दौरान बिहारी रेस्टोरेंट ढाबा के संचालक अनीश कुमार को मगध मेडिकल थाना की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस वहां दो गोली बरामद की गई है इस मामले में अनीश कुमार को जेल भी भेज दिया गया इसे लेकर पीड़ित पक्ष के द्वारा स्थानीय प्रशासन से लेकर मुख्यमंत्री तक गुहार लगाई गई। जिसका मगध मेडिकल थाना कांड संख्या 197/21 दर्ज किया गया था।

इस संबंध में पीड़ित के चाचा राकेश रंजन ने आज एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि पूरे मामले में भू-माफियाओं से पुलिस की मिलीभगत सामने आ रही है। उन्होंने कहा कि वहां पर जमीन विवाद को लेकर हमारे भतीजे को फंसाया गया है। भू-माफिया और स्थानीय थानाध्यक्ष अबुजैर हुसैन अंसारी के साठ-गांठ के बाद उनके भतीजे को झूठे केस में फंसा कर जेल भेज दिया गया। इसे लेकर स्थानीय पुलिस प्रशासन के अलावा मुख्यमंत्री एवं पुलिस के आला अधिकारी से मामले की जांच कर इंसाफ की गुहार लगाई है। 

उन्होंने कहा कि मामले की जांच दिया गया हालांकि इस दौरान तीन लोगों को सस्पेंड भी किया गया है। जिसमें सूचक अबूजैर हुसैन अंसारी, केस के आईयो सुरेंद्र प्रसाद एवं गवाह बबलू राज को निलंबित किया है। उन्होंने कहा कि मगध प्रमंडल के आईजी अमित लोढ़ा के द्वारा पूरे मामले को संज्ञान लेने के बाद एवं छापामारी दल में शामिल लोगों का बयान लेने के बाद यह स्पष्ट हो गई कि पूरे मामले को फर्जी तरीके से स्वरूप दिया गया एवं अनीश कुमार को जेल भेज दिया गया। इस मामले में आईजी के द्वारा सीआईडी जांच की भी अनुशंसा की गई है। जिसके बाद यह पूरा मामला सीआईडी जांच करेगी। उन्होंने कहा कि हम पुलिस के आला अधिकारियों व डीजीपी से यह मांग करते हैं कि पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जाए।

Find Us on Facebook

Trending News