तेजस्वी ने युवाओं पर डाल दी जीत की जिम्मेदारी, RJD की यूथ पॉलिटिक्स क्या चुनाव में कर पाएगी बड़ा उलटफेर

तेजस्वी ने युवाओं पर डाल दी जीत की जिम्मेदारी, RJD की यूथ पॉलिटिक्स क्या चुनाव में कर पाएगी बड़ा उलटफेर

PATNA : बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों के बाद अब सियासी दलों ने पहले फेज के उम्मीदवारों के नाम की घोषण कर दी है. इस बार चुनाव में पार्टियों ने टिकट देने के दौरान सामाजिक समीकरण का ध्यान हर बार की तरह रखा है. लेकिन राजद के तेजस्वी यादव ने जातीय समीकरण के साथ साथ अपने वादे को भी पूरा किया है. यूथ पॉलिटिक्स को लेकर आगे बढ़ रहे तेजस्वी यादव ने इस इस बर युवाओं को तरजीह दी है.

युवाओं पर तेजस्वी ने किया भरोसा
राजद ने पहले चरण की जिन 42 सीटों के प्रत्याशियों को सिंबल दिया है उनमें सबसे ज्यादा युवा हैं. तेजस्वी ने 50 साल के कम से 36 कैंडिडेट को चुनावी मैदान में उतारा है. इसके साथा ही तेजस्वी यादव ने पिछले चुनाव की गणित को देखते हुए इस बार भी बड़ी संख्या में महिलाओं को भी चुनावी मैदान में उतारा है.राजद के कुल 42 कैंडिडेट में 10 महिलाएं हैं. इसके साथ ही सामाजिक समीकरण के लिहाज से राजद ने अपने वोट बैंक का भी पूरा ख्याल रखा है. आधे से ज्यादा मुस्लिम और यादव समीकरण से हैं.

राजद ने 42 कैंडिडेट में 19 सीटों पर यादव को सीट दी है जबकि 3 सीट पर मुस्लिम उम्मीदवार को चुनावी मैदान में उतारा है. भूमिहार और ब्राह्मण एक-एक सीट दी गई है.जबकि कुशवाहा और राजपूत को दो-दो सीटों दी गई हैं. इसके साथ ही राजद ने आरक्षित सीटों लिहाज से पहले चरण में अनुसूचित जाति के 8 और जनजाति के एक प्रत्याशी को चुनावी मैदान में उतारा है. लेकिन इन सब के बीच राजद को जब से युवा नेतत्व मिला है तब से युवाओं पर पार्टी लगातार फोकर कर रहा है. अब देखना है कि पार्टी ने तो युवाओं पर भरोसा किया है लेकिन क्या बिहार के युवा तेजस्वी पर भरोसा कर पाते हैं?

Find Us on Facebook

Trending News