सवाल पूछने पर लाल-पीले हुए मंत्री जी, कहा- माला पहना दूं क्या !

NAWADA : बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल है। शहर से लेकर गांव तक मरीज बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर परेशान, हलकान हैं। किसी जिले में डॉक्टर नहीं तो कहीं अस्पताल के नाम पर जर्जर बिल्डिंग खड़ी है। स्वास्थ्य केंद्रों पर दवाई भी गरीब मरीजों को भगवान भरोसे ही मिलती है।

पत्रकार से उलझे मंत्री, कहा- पहना दूं माला 

सबसे बुरा हाल तो नवादा जिले का है। यहां पर मरीज को एंबुलेंस की जगह खटिया पर लिटाकर अस्पताल पहुंचाया जाता है। लेकिन स्वास्थ्य मंत्री यह मानने को तैयार नहीं। उल्टे मंगल पाण्डेय सवाल पूछने पर पत्रकारों को हड़काते हैं। भरी सभा में उन्हें जलील करते हैं। न्यूज4नेशन के पत्रकार ने जब स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सवाल पूछा तो वो भड़क उठे और कहा कि आप पत्रकार बनने लायक नहीं हैं।  

मंत्री की इस बात से नाराज पत्रकारों ने जब पूछा कि तो फिर आप बताइए कि हमलोग क्या बनने के लायक है ? इस पर वो निरुत्तर हो गये। इसी बीच स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय के हाथ में एक माला आ जाता है और वो पत्रकारों से मुखातिब होकर कहते हैं कि आपको माला पहना दें...अब यहां पर किस सेंस से वो पत्रकारों को माला पहनाने की बात कहते हैं, यह समझ से परे है।  

मरीजों को क्यों नहीं मिलता एंबुलेंस

दरअसल, 4 अक्टूबर, गुरुवार को गोविंदपुर प्रखंड के सरकंडा गांव की एक प्रसूता को अस्पताल जाने के लिए एंबुलेंस उपलब्ध नहीं कराया गया था। लिहाजा प्रसूता को बैलगाड़ी से गोविंदपुर पीएचसी पहुंचाया गया। डिलीवरी के बाद भी उसे एंबुलेंस नहीं मिला और प्रसूता को वापस बैलगाड़ी से ही नवजात के साथ घर जाना पड़ा। 


22 सितंबर से ही खराब है एंबुलेंस

एंबुलेंस मांगने पर अस्पताल प्रशासन ने बताया कि 22 सितंबर से ही एंबुलेंस खराब है। दूसरी ओर, आशा मीना देवी ने बताया कि सरकंडा पंचायत में नदी के कारण आज तक एंबुलेंस नहीं पहुंचा है। जब इसी कुव्यवस्था को लेकर पत्रकारों ने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय से सवाल पूछा तो वो भड़क उठे। मंत्री जी पार्टी की ओर से आयोजित किसान सम्मेलन में भाग लेने शुक्रवार को नवादा पहुंचे थे। 



Find Us on Facebook

Trending News