बिहार के सारण सीट पर सबकी नजरें टिकी, राजीव प्रताप रूडी का चंद्रिका राय से है मुकाबला

बिहार के सारण सीट पर सबकी नजरें टिकी, राजीव प्रताप रूडी का चंद्रिका राय से है मुकाबला

N4N DESK: लोकसभा चुनाव में यूं तो बिहार की सभी 40 सीटें अहम हैं लेकिन जिन सीटों पर सबकी नजर है उसमें सारण सीट भी शामिल है. लोकनायक जय प्रकाश नारायण की जन्मभूमि सारण सीट बिहार की सबसे हाई प्रोफाइल संसदीय सीट मानी जाती है. छपरा सीट के हाई प्रोफाइल होने के पीछे दो वजहें हैं.. पहला इस सीट से पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी का सांसद होना और दूसरा यहां से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के समधी और तेजप्रताप यादव के ससुर चंद्रिका प्रसाद राय की उम्मीदवारी. 

इस संसदीय सीट क्षेत्र से राजनीति के दिग्गज नेता और राजद सुप्रीमो लालू यादव का सफ़र यहां से शुरू हुआ था. लकिन 2019 के इस लोकसभा में लालू के समधी चंद्रिका राय का सीधा मुकाबला राजीव प्रताप रूड़ी से होगा. इस संसदीय क्षेत्र से भाजपा जीत को दोहराना चाहेगी तो वहीं राजद इस सीट को हर हाल में जितना चाहेगी. 

यादव और राजपूत वोटों के समीकरण के बदौलत बिहार के हाई- प्रोफाइल इस सीट से लालू यादव 4 बार सांसद रह चुके हैं. सारण लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो वोटरों की कुल तादाद 1,268,338 है. इसमें से 580,605 महिला मतदाता हैं जबकि 687,733 पुरुष मतदाता हैं.

सारण लोकसभा के चुनाव के समीकरण 

2014 के लोकसभा चुनाव में सारण से बीजेपी उम्मीदवार राजीव प्रताप रुडी की जीत हुई थी. राजीव प्रताप रुडी को 2014 के लोकसभा चुनाव 3,55,120 वोट मिले थे. जबकि राजद में उम्मीदवार रही राबड़ी देवी को 3,14,172 वोट मिला. साथ ही जेडीयू के सलीम परवेज 1,07,008 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे थे. इससे पहले 2009 के चुनाव में सारण सीट से राजद सुप्रीमो लालू यादव जीते थे. लालू यादव को 2,74,209 वोट मिले थे जबकि राजीव प्रताप रुडी को 2,22,394 वोट. सलीम परवेज तब भी तीसरे नंबर रहे थे. लेकिन उस समय वे बसपा के टिकट पर उतरे थे तब उन्हें 45,027 वोट मिले थे.

Find Us on Facebook

Trending News