बिहार के सरकारी स्कूलों के ‘गुरूजी’ अब पानी की करायेंगे जांच, कतार में खड़े होकर जमा करायेंगे बोतलबंद पानी का नमूना

बिहार के सरकारी स्कूलों के ‘गुरूजी’ अब पानी की करायेंगे जांच, कतार में खड़े होकर जमा करायेंगे बोतलबंद पानी का नमूना

Patna- बिहार के सरकारी स्कूलों के गुरूजी अब बोतल में पानी भरकर उसकी जांच करायेंगे. यह काम उन्हें हर हाल में 30 अप्रैल तक कर लेना है. शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आर.के. महाजन ने आदेश जारी किया है कि सभी तरह के सरकारी स्कूलों के प्रधानाध्यापक अपने-अपने स्कूलों में लगे चापाकल- नल का एक लीटर पानी बोतल में भरकर उसकी जांच करायें.

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव ने इस संबंध में 27 अप्रैल को आदेश किया है. अपर मुख्य सचिव के आदेश के बाद जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी भी अपने अधीनस्थ के सभी सरकारी स्कूलों के प्रधान को  इस संबंध में पत्र लिखा है.

30 अप्रैल तक कराना है जमा

पटना के डीईओ ज्योति कुमार ने अपने पत्र में लिखा है कि पटना हाईकोर्ट के आदेश के बाद अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग ने 27 अप्रैल को पत्र जारी किया है. उस पत्र में आदेश दिया गया है कि सभी विद्यालय के प्रधान अपने-अपने विद्यालय के नल- कल की सफाई कराते हुए स्वच्छ हाथों से विद्धालय के नाम का टैग लगा कर एक लीटर के साफ बोतल में पानी का नमूना संग्रह करेंगे. उसके बाद उक्त बोतल को पटना के छज्जूबाग अवस्थित जल प्रयोगशाला में 30 अप्रैल तक हर हाल में जमा करेंगे. ताकि उस नमूने की जांच कराई जा सके. डीईओ ने अपने पत्र में लिखा है कि मामला पटना हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन के संबंध में है. इसलिए इसमें लापरवाही नहीं चलेगी. 

तो कतार में खड़ा होकर गुरूजी जमा करेंगे नमूना

आपको बता दें कि बिहार की बात छोड़िए सिर्फ पटना जिले में करीब तीन हजार सरकारी स्कूल हैं. इन स्कूलों में लगे नल-जल की पानी की जांच के लिए सिर्फ दो दिनों का समय दिया गया है. विभाग के इस आदेश से शिक्षक संघ अचंभित है. संघ का मानना है कि इस तरह का आदेश पूरी तरह से गैर जिम्मेदाराना है. सिर्फ दो दिन में तीन हजार स्कूलों के पानी का नमूना कैसे जमा हो पाएगा ? क्या अब प्रधानाध्यापक पानी जमा कराने के लिए कतार में खड़े होंगे?

Find Us on Facebook

Trending News