कसम खाने से पहले हीं गिरफ्तार हो गया दारू माफियाओं का सिंडिकेट, बाबा के दरबार में सफाई भी पेश नहीं कर पाए थे कि....

कसम खाने से पहले हीं गिरफ्तार हो गया दारू माफियाओं का सिंडिकेट, बाबा के दरबार में सफाई भी पेश नहीं कर पाए थे कि....

पटनाः विश्वास कीजिए मैने एक्साइज पुलिस को इंफॉर्म नहीं किया था और न हीं दारू धरवाने में हमारी कोई भूमिका है।ये नार्थ बिहार के दारू माफियाओं के सिंडिकेट के बीच आपस में सफाई देने का एक वाकया भर है।

बता दें कि 12 जून को मुजफ्फरपुर-दरभंगा रोड़ के बोचहां इलाके में मुजफ्फरपुर एक्साईज विभाग की टीम ने छापेमारी कर करीब 1000 कार्टून शराब बरामद किया था।इतनी बड़ी बरामदगी में बोचहां इलाके के दारू माफियाओं के सिंडिकेट में हडकंप मच गया।शराब माफिया इस कार्रवाई के पीछे अपने खास लोगों में से हीं किसी एक पर शंका कर रहे थे।आधिकारिक सूत्रों की मानें तो इस मुद्दे को लेकर दारू माफिया आपस में हीं भिड़ गए।शक का दायरा आपस में हीं बढ़ते चला जा रहा था।यह बरामदगी सिंडिकेट के लिए एक बहुत बड़ा आर्थिक नुकसान था।एक-दूसरे का गिरेबां न छोड़ने पर आमदा दारू माफियाओं ने यह तय किया कि देवधर चलकर बाबा भोले के दरबार में यह कसम खाया जाए कि इस छापेमारी में हमारी कोई भूमिका नहीं है। गिरोह के अधिकांश सदस्य अपने साथी हरि राय पर शंका कर रहे थे.लेकिन वह मानने को तैयार नहीं हो रहा था। 

जाहिर है जो कसम खाने के लिए तैयार नहीं होता उसकी भूमिका बोचहां में हुई शराब बरामदगी में तय की जाती।लेकिन यहां तो महादेव ने कुछ और हीं सोंच रखा था।पाप कर बाबा नगरी में आपस में सफाई देने आए दारू माफिया गिरोह की भनक पुलिस को लग चुकी थी।बोचहां में हुए भारी मात्रा शराब की बरामदगी के बाद से हीं यह सिडिंकेट एक्साईज विभाग और पुलिस के रडार पर था।

एक्साईज विभाग के खबरची ने पूरी बात बता दी कि सभी माफिया कसम खाने देवधर गए हैं। बस क्या था पुलिस ने पहले टावर लोकेशन के आधार पर यह पुख्ता कर लिया कि वे सभी देवधर में हीं हैं।इसके बाद  पुलिस ने ऑपरेशन किया और शराब माफियाओं का सिंडिकेट बाबा के दरबार में कसम खाने से पहले हीं पुलिस के गिऱप्त में आ गए।

Find Us on Facebook

Trending News