अब थानेदार चाहिए टू-टाईटः विशेष अर्हता नहीं रखने वाले थानेदारों को 31 जुलाई से पहले हटा दिया जाएगा

अब थानेदार चाहिए टू-टाईटः विशेष अर्हता नहीं रखने वाले थानेदारों को 31 जुलाई से पहले हटा दिया जाएगा

पटनाः बिहार में बेपटरी हो चुकी लॉ एंड ऑर्डर को पटरी पर लाने को लेकर कवायद की जा रही है।अब विशेष अर्हता नहीं रखने वाले थानेदारों को 31 जुलाई तक हर हाल में हटाने का आदेश पुलिस मुख्यालय ने जारी कर दिया है। 

 एडीजी विधि-व्यवस्था अमित कुमार ने सभी आईजी,डीआईजी और एसएसपी को आदेश दिया है कि थानाध्यक्ष एवं अंचल पुलिस निरीक्षक के लिए जो विशेष अर्हताएं निर्धारित की गई है,उसकी सभी एसपी  जांच कर लें।वर्तमान में उनके जिले के थानाध्यक्ष इस अर्हता को पूरी कर रहे हैं अथवा नहीं।अगर जो भी थानाध्यक्ष या अंचल निरीक्षक उस योग्यता को पूरा नहीं करते हैं उन्हें पद से हटाकर इसकी रिपोर्ट 31 जुलाई को मुख्यालय तक भेजी जाए।

जानिए थानाध्यक्ष बनने के लिए क्या है विशेष अर्हता

1-यदि किसी थानाध्यक्ष के अंतर्गत शराब निर्माण,बिक्री,परिचालन,अथवा उपभोग में उसकी संलिप्तता की बात प्रकाश में आती है या क्षेत्र अंतर्गत मद्ध निषेध में उनके स्तर से कर्तव्यहीनता बरती जाती है तो उक्त पुलिस पदाधिकारी को अगले 10 सालों तक थानाध्यक्ष नहीं बनाया जाएगा।

2-जिन्हें किसी कांड के अनुसंधान के दौरान पुलिस द्वारा अभियुक्त ठहराया गया हो

3-जिन्हें MORAL TURPITUDE के आरोप में विभागीय कार्यवाही में दोषी पाया गया हो यानि महिलाओं से अभद्र व्यवहार,भ्रष्टाचार और अभिरक्षा में हिंसा ।

4-जिन्हे विभागीय कार्यवाही के संचालन के उपरांत 3 अथवा उससे अधिक  वृहत सजा मिली हो

5-पदाधिकारी के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही लंबित हो तो उसे थानाध्यक्ष नहीं बनाया जा सकता

6-जिन्हें किसी न्यायालय द्वारा दोषसिद्ध किया गया हो....

ऐसे लोगों को अब बिहार के थाानों में थानाध्यक्ष की कुर्सी नहीं दी जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News