सुशासन राज में हर दिन 4 बलात्कार, 2020 में 1450 लड़कियों-महिलाओं की 'अस्मत' हुई तार-तार...

सुशासन राज में हर दिन 4 बलात्कार, 2020 में 1450 लड़कियों-महिलाओं की 'अस्मत' हुई तार-तार...

PATNA: बिहार में अपराध का ग्राफ काफी बढ़ा हुआ है। अपराधी जब और जहां चाह रहे आराम से घटना को अंजाम दे रहे और फिर भाग जा रहे। पुलिस सिर्फ डंडा पीटने घटनास्थल पर पहुंच रही है। यूं कहें कि बिहार के अपराधियों में वर्दी का खौफ खत्म हो गया। सीएम नीतीश बार-बार अपराधियों के मन में पुलिस का खौफ कायम करने को लेकर निर्देश पर निर्देश देते हैं लेकिन उसका असर भी पुलिस पर नहीं होता है। हालांकि सरकार की तरफ से दावे किये जाते हैं कि बिहार में अपराध का ग्राफ लगातार कम रहा है। लेकिन हकीकत कुछ और ही है।

बिहार में महिलायें सुरक्षित नहीं

बिहार में महिलाओं और लड़कियों के साथ रेप की लगातार घटनाएं घट रही है। पिछले साल 2020 की बात करें तो पुलिस रिकार्ड में 1450 लड़कियों-महिलाओं की अस्मत से खेला गया है। यानि कि औसतन हर महीने 121महिलाओं की इज्जत लूटी गई है। अगर प्रतिदिन के हिसाब से गणना करें तो हर दिन 4 महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटना घटी है। वर्ष 2020 की बात करें तो सबसे अधिक जून महीने में 146 महिलाओं की इज्जत तार-तार हुई। उसके बाद जुलाई में 142,अगस्त में 139, सितंबर में 133,मार्च में 128,अप्रैल में 127, फरवरी में 121, अक्टूबर में 120 महिलाओं से रेप किया गया। सबसे कम दिसंबर महीने में 75 महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटना प्रतिवेदित हुई है।

पुलिस मुख्यालय की तरफ से रिपोर्ट जारी

बिहार पुलिस मुख्यालय की तरफ से यह आंकडा जारी किया गया ।मुख्यालय की तरफ से जारी आंकड़ा के मुताबिक 2020 में कुल संज्ञेय अपराध की संख्या 269096 रही। 



Find Us on Facebook

Trending News