शिक्षक बहाली में फर्जीवाड़े का खुल गया पिटारा, 162 फर्जी शिक्षकों की गई नौकरी

शिक्षक बहाली में फर्जीवाड़े का खुल गया पिटारा, 162 फर्जी शिक्षकों की गई नौकरी

PATNA : बिहार में  सरकारी अधिकारी और शिक्षक नियोजन इकाई की मिलीभगत ने फर्जीवाड़े की सारी हदे पार कर दी हैं।अधिकारियों ने खुलेआम फर्जी शिक्षकों की बहाली कर दी। एक-एक टीईटी  सर्टिफिकेट पर 3-3 शिक्षकों को बहाल कर दिया गया।अधिकारियों को खुश रखकर सभी शिक्षक सालों से नौकरी करते रहे और बदले में तनख्वाह भी लेते रहे।

बिहार के कई जिलों से इस तरह के फर्जीवाड़े की खबरें आ रही हैं। पूर्णियां में एक ऐसे ही फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है।अधिकारियों की मिलीभगत से ऐसी गडबड़ी  सामने आया है जिसे सुनकर आप दांतों तले अंगूली  दबा लेंगे।

पूर्णियां के डीईओ ने जब जांच कराई तो एक ही प्रमाण-पत्र पर तीन-तीन शिक्षकों के नौकरी करने का खुलासा हुआ ।अब तक की जांच में 162 फर्जी शिक्षकों पकड़ में आए हैं। जांच में कई जगहों पर  यह बात सामने आयी है कि जाली सर्टिफिकेट पर शिक्षकों को बहाल किया गया है। विभाग अभी अन्य शिक्षकों की सर्टिफिकेट की भी जांच कर रहा है।

क्या कहते हैं पूर्णियां के डीईओ

जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार ने बताया कि फर्जीवाड़े की जानकारी मिलने पर  स्थापना डीपीओ चन्द्रशेखर प्रसाद शर्मा द्वारा पूर्णिया के बनमनखी और रुपौली प्रखंड में जांच कराई गई। शिक्षा विभाग और निगरानी द्वारा दी गई सीडी से मिलान कर जांच करने पर बनमनखी प्रखंड़ में 107 और रुपौली में अबतक 55 फर्जी शिक्षक पकड़े गए हैं। डीईओ ने बताया की अभी सिर्फ 2 प्रखंडों में जांच हुई है ।बाकी के अन्य प्रखंडों  मे जांच जारी है।फर्जी शिक्षकों को हटाने के लिए नियोजन इकाई को आदेश दिया गया है।सभी फर्जी चिन्हित शिक्षकों पर केस भी दर्ज किया जाएगा।


Find Us on Facebook

Trending News