Big Breaking: बिहार में करीब चार लाख वाहन मालिकों के गाड़ी किये जायेंगे जब्त, परिवहन विभाग का बड़ा फैसला

Big Breaking: बिहार में करीब चार लाख वाहन मालिकों के गाड़ी किये जायेंगे जब्त, परिवहन विभाग का बड़ा फैसला

पटना।  बिहार में करीब चार लाख वाहन मालिकों पर शिकंजा कसने की तैयारी चल रही है।जल्द ही इनके वाहन जब्त किए जा सकते हैं। परिवहन विभाग ने इन पर शिकंजा कसने की तैयारी भी पूरी कर ली है। पहले इन्हें नोटिस दी जाएगी। तय समय सीमा में अगर इन वाहन मालिकों ने जवाब नहीं दिया तो फिर इन पर विभाग मुकदमा भी करेगा और इनकी गाड़ी भी जब्त कर ली जाएगी।

गौरतलब है कि बिहार में 89 लाख 38 हजार 621 वाहन निबंधित हैं। इन वाहनों का विवरण केंद्र सरकार के पोर्टल पर उपलब्ध है। वहीं इन रजिस्टर्ड वाहनों में से 3 लाख 74 हजार 788 वाहन मालिकों ने टैक्स जमा नहीं किये हैं। टैक्स नहीं जमा करने के कारण इन वाहनों को टैक्स डिफॉल्टर की श्रेणी में डाल दिया गया है। बता दें कि इन वाहन मालिकों पर करोड़ों रुपए टैक्स के बकाए हैं। इन वाहन मालिकों में निजी वाहन और व्यवसायिक वाहन मालिक दोनों शामिल हैं।

परिवहन विभाग के द्वारा की गई समीक्षा में पाया गया है कि यह सब के सब टैक्स डिफॉल्टर हैं और रोड परमिट सहित अन्य मदों में राशि इनके यहां बकाया है परिवहन विभाग की माने तो अब इन सभी टैक्स डिफॉल्ट रूम पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी प्रारंभ में इन्हें नोटिस भेजकर इन से जवाब मांगा जाएगा नोटिस भेजने की जिम्मेवारी सभी जिला परिवहन पदाधिकारी यों को दे दी गई है। नोटिस मिलने के 21 दिनों के भीतर इन वाहन मालिकों को जवाब देना होगा इस समय सीमा में अगर टैक्स डिफाल्टर वाहन मालिक जवाब नहीं देते हैं तो इन पर सर्टिफिकेट केस किया जाएगा और सर्टिफिकेट केस होने के बाद इन्हें मुकदमे का सामना करना होगा।

जब्त किए जाएंगे वाहन

गौरतलब है कि नियम के अनुसार टैक्स डिफॉल्टर मालिकों की की गाड़ियां जब्ती का प्रावधान है। नोटिस और मुकदमे के बाद विभाग इन वाहन मालिकों की गाड़ियां जब्त कर सकती है। नियम की मानें तो टैक्स डिफॉल्टर वाहन मालिकों की गाड़ी अगर एक बार जब्त हो जाए तो फिर टैक्स जमा करने के बाद ही गाड़ी वापस होती है। हालांकि वाहनों की जब्ती के बाद वाहन मालिकों को समय दिया जाता है। बताया जा रहा है कि इस बार विभाग कार्रवाई करने का मन बना चुका है।


Find Us on Facebook

Trending News