दारोगा की हत्या पर तेजस्वी ने उठाए सवाल, पूछा - यह कैसी शराबबंदी, जहां गरीब जेल में है

दारोगा की हत्या पर तेजस्वी ने उठाए सवाल, पूछा - यह कैसी शराबबंदी, जहां गरीब जेल में है

पटना। शराब बंदी को लेकर विधान परिषद में विपक्ष ने जमकर हुआ हंगाम। विधानसभा सदस्य प्रेम चंद मिश्रा ने कहा बिहार में यह कैसी शराब बंदी है कि अब पुलिसवालों की ही हत्या की जा रही है। नीतीश सरकार बताएं कि बिहार में पूर्ण रूप से शराबबंदी कब तक लागू होगी। कब लोग शराब के कारण अपनी जान नहीं गंवाएंगे। मामले में विधानपरिषद में विपक्ष के नेताओं ने सदन के बाहर और सदन के अंदर जमकर अपनी आवाज बुलंद की। मामले में नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि यह बिहार में ही हो सकता है कि यहां गरीब लोग जेल में बंद हैं और शराब माफिया खुलेआम अपना धंधा कर रहे हैं।

तेजस्वी यादव ने कहा कि यहां शराब के कारण एक पुलिसकर्मी की मौत हो जाती है और नीतीश सरकार के मंत्री इस पर ऊटपटांग बयान देते हैं। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार को यह जिम्मेदारी लेनी होगी कि उनके अधिकारियों के सरंक्षण में फल फूल रहा है।

इससे पहले विधान परिषद के बाहर राजद और उनके सहयोगी पार्टियों ने सदन के बाहर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। सदस्यों ने इस दौरान सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की है। राजद नेताओं ने कहा कि गोपालगंज, मुजफ्फरपुर और सीतामढ़ी में शराब के कारण मौत की घटना सामने आई है। नीतीश सरकार की शरारबंदी सिर्फ कागजों में सीमित है और इसकी जमीनी हकीकत सबसे अलग है। 

बता दें कि बुधवार को सीतामढ़ी के एक गांव में शराब की तस्करी रोकने गए दारोगा की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। साथ ही एक पुलिसकर्मी को गंभीर रूप से घायल कर दिया गया था।


Find Us on Facebook

Trending News