‘सैर-सपाटे’ वाले मंत्री की हाजिरजवाबी से सन्न रह रहे बड़े 'कल्याण' वाले मंत्रीजी...ऐसी चली चाल की सांप भी मर गया और लाठी भी न टूटी

‘सैर-सपाटे’ वाले मंत्री की हाजिरजवाबी से सन्न रह रहे बड़े 'कल्याण' वाले मंत्रीजी...ऐसी चली चाल की सांप भी मर गया और लाठी भी न टूटी

PATNA :  चुनावी मौसम में बड़े ‘कल्याण’ वाले मंत्रीजी ने अपने छोटे वाले मंत्री को सलाह दी कि आप ‘सैर-सपाटे’ से ताल्लुक रखने वाले विभाग के मंत्री हैं। लिहाजा खबरनवीसों को कुंभ घूमा दीजिए। छोटे वाले मंत्री केंद्र वाले बड़े मंत्री के इस सलाह से टेंशन मे आ गए। परेशानी की दो बड़ी वजहें थी। पहला तो यह कि कुंभ घूमाने के लिए अर्थ कहां से आएगा। अगर अर्थ का इंतजाम हो भी गया तो दूसरी सबसे बड़ी चिंता यह थी कि उसका श्रेय बड़े वाले मंत्रीजी ले उड़ेंगे। लिहाजा सैर सपाटे वाले विभाग के छोटे मंत्रीजी ने दिमाग से काम लिया। उन्होंने ऐसी चाल चली कि बड़े वाले मंत्री चित्त हो गए। सैर-सपाटे वाले विभाग के मंत्री ने ऐसी चाल चली कि सांप भी मर गया और लाठी भी न टूटी।

सैर-सपाटे वाले मंत्री  की बात पर छा गयी चुप्पी

सैर-सपाटे वाले मंत्री ने बड़े वाले मंत्री को कहा-“सर कुंभ स्नान या तीर्थाटन दूसरे के पैसे से नहीं करनी चाहिए”। इससे पुण्य की जगह पाप लग जाती है। भला कुंभ में पुण्य कमाने की जगह पाप का भागीदार बनने कौन जाएगा?। आखिर खबरनवीसों ने क्या गलती की है? सैर-सपाटे वाले मंत्री जी के मुंह से निकले इस बयान के बाद बड़े वाले वजीर हक्का-बक्का रह गए। उन्हें छोटे वाले से इस तरह के जवाब की उम्मीद नहीं थी। वे तो इस आश मे थे कि सैर-सपाटा कराने वाले मंत्री जी इस चुनावी मौसम में खबरनवीसों को कुंभ घूमा देंगे। वे दूसरे के मत्थे कुंभ घूमाने का जिम्मा देकर अपनी पीठ थपथपाना चाहते थे। लेकिन छोटे वाले भी कम चालाक नहीं थे। वे बड़े वाले मंत्री जी के इस हिडेन एजेंड़ा को पूरी तरह से समझ रहे थे।

कल्याण और सैर-सपाटे वाले मंत्री एक ही जिले के

हम आपको यह बता देते हैं कि बड़े वाले मंत्री जी के कंधे पर‘ कल्याण’ का जिम्मा है। जबकि छोटे वाले ‘सैर-सपाटे’ वाले विभाग से ताल्लुक रखते हैं। संयोग से बड़े-छोटे दोनों एक ही जिले और संसदीय क्षेत्र से आते हैं।


Find Us on Facebook

Trending News