1.20 लाख के पीएम आवास का लाभ पाने के लिए देने पड़ते हैं इतने हजार रुपए, आवास सहायक के रिश्वत मांगने का ऑडियो वायरल

1.20 लाख के पीएम आवास का लाभ पाने के लिए देने पड़ते हैं इतने हजार रुपए, आवास सहायक के रिश्वत मांगने का ऑडियो वायरल

MOTIHARI. : सरकार के हर गरीबो के घर की  सपना को अधूरा रखने  में उनके ही कर्मी जुटे है .पीएम आवास योजना की भुगतान से पहले ही पदाधिकारी को चढ़वा चढ़ना पड़ता है .बिना चढ़वा के गरीबों के पक्का की घर की सपना पूरा होते नही दिख रहा है। सरकार के द्वारा बहाल किये गए आवास सहायक आवास योजना के लाभार्थी से तीनों क़िस्त भुगतान के लिए पहले सौदा तय करते है। सौदा का एक हिस्सा मिलने पर एक क़िस्त का भुगतान होता है। अगर लाभार्थी के पास रुपया अग्रिम देने के लिए नही है तो महाजन से सूद पर रुपया लेकर देना पड़ता है।

दरअसल, पूर्वी चंपारण जिला में एक आवास का पीएम आवास योजना का भुगतान के लिए पहले 30 हज़ार रिश्वत मांगने का ऑडियो खूब वायरल हो रहा है।सूत्रों के अनुसार वाइरल ऑडियो चिरैया प्रखंड के बारा जयराम पंचायत के आवास सहायक का बताया जा रहा है। जिसके बाद लोग यह कहते नही थक रहे कि जब लाभार्थी से इतना रुपया रिश्वत ले लिया जाएगा तो गरीब के घर का सपना इतना महंगाई में कैसे पूरा होगा ।अगर घर अधूरा रह गया तो लाभार्थी पर कार्रवाई की धमकी दी जाती है ।वहीं आवास की राशि बढ़ने के साथ ही रिश्वत की दर भी बढ़ गया है। ग्रामीणों ने गरीबों की शोषण करने वाले पदाधिकारी व कर्मी पर कार्रवाई करने की मांग भी किया है।

क्या है वायरल ऑडियो में

वाइरल ऑडियो में आवास सहायक स्पष्ट कहते हुए सुना जा रहा है कि पीएम आवास योजना के तीन क़िस्त भुगतान में 45 हज़ार रुपया लगता है ।30 हज़ार देने पर दो क़िस्त ही भुगतान होगा ।लेकिन लाभार्थी का भतीजा गरीब होने के बात कहकर 30 हज़ार में ही तीनो क़िस्त भुगतान करने की बात आवास सहायक से करता है ।आवास सहायक यह कहते नही थक रहा कि भुगतान के बाद लोग तय रुपया नही देते हैं। हम जो कहते है उतना ही करते हैं ।आधार कार्ड में कोई गड़बड़ी होगा उसके बाद भी 30 हज़ार देने पर भुगतान हो जाएगा। वहीं ऑडियो वायरल होने के बाद आवास सहायक ने रिश्वत मांगने के ऑडियो में अपने को होने से इंकार कर रहा है।

सरकार हर गरीब को अपना एक घर हो इसको लेकर पीएम आवास योजना के तहत राशि देकर सपना साकार करने में जुटी है।वही दूसरी तरफ सरकार जिसे इस योजना की निगरानी व गरीबो को आसानी से लाभ दिलाने के लिए रखा है, वही आवास सहायक सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना में सेंधमारी खुलमखुल्ला रिश्वत मांग रहे हैं। बिना रिश्वत लिए का क़िस्त का भुगतान नही करते हैं। ऐसे रहा तो गरीबों के घर की सपना कैसे साकार होगा। अब लोगो की निगाहें वरीय पदाधिकारी पर टिकी है कि जांच कर ऐसे आवास सहायक पर क्या कार्रवाई की जाती है।

वायरल ऑडियो की पुष्टि न्यूज़4नेशन नही करता है ।लेकिन सोशल मीडिया पर आवास योजना के लाभ दिलाने के नाम पर वायरल ऑडियो खूब ट्रौल हो रहा है ।


Find Us on Facebook

Trending News