बिहार के 39 सांसद और 5 केंद्रीय मंत्री नाक रगड़कर माफी मांगे, क्या झाल बजाने के लिए जनता ने चुनकर भेजा था? -तेजस्वी

बिहार के 39 सांसद और 5 केंद्रीय मंत्री नाक रगड़कर माफी मांगे, क्या झाल बजाने के लिए जनता ने चुनकर भेजा था? -तेजस्वी

PATNA :  बिहटा के ईएसआईसी को कोविड अस्पताल बनाने के लिए राज्य सरकार के लेटर दिए जाने के 10 दिन बाद भी डीआरडीओ से मंजूरी नहीं मिलने को लेकर तेजस्वी यादव ने राज्य सरकार और राज्य के सांसदों पर जमकर भड़ास निकालीहै। तेजस्वी ने लिखा है कि बिहार के 40 में से 39 NDA सांसदों और 5 केंद्रीय मंत्रियों को नाक रगड़ बिहारवासियों से माफ़ी माँगनी चाहिए कि इस संकट की घड़ी में वो जनता के किसी भी काम नहीं आ सकते। केंद्र सरकार गुजरात, UP में DRDO, रक्षा मंत्रालय इत्यादि के माध्यम से ऑक्सीजन, डॉक्टर की व्यवस्था कर रही है लेकिन बिहार की नहीं। 

तेजस्वी ने पूछा है कि  क्या नीतीश कुमार ड़बल इंजन सरकार जनित स्वास्थ्य आपदा के वक्त भी केंद्र सरकार से जरुरी मदद नहीं माँग सकते या केंद्र उनकी हैसियत और साख देख सहायता नहीं कर रहा? नीतीश जी, स्थिति स्पष्ट करे। बिहार NDA के कुल 48 सांसद क्या झाल बजा रहे है? क्या छुपकर चुप रहने के लिए जनता ने उन्हें चुनकर दिल्ली भेजा था?

कोविड अस्पताल में देरी को लेकर जताया गुस्सा

बिहार में ईएसआईसी और मेदांता को कोविड अस्पताल बनाने के लिए राज्य सरकार की तरफ से प्रयास किया जा रहा है. लेकिन जिस तरह से डीआरडीओ ने राज्य सरकार की मांग को दस दिनों से ठंडे बस्ते में डाल दिया है, वह समझ से परे है। वह भी तब जब बिहार में मरीजों को भर्ती करने के लिए अस्पतालों में बिस्तर की कमी का सामना करना पड़ रहा है। विपक्ष की तरफ से मांग की गई है कि केंद्र सरकार मामले में दखल दे और डीआरडीओ को इसके लिए निर्देश जारी करे।



Find Us on Facebook

Trending News