BIHAR NEWS: आरा के ‘गायक’ दारोगा को भोजपुर एसपी ने किया निलंबित, गिरफ्तारी से बचने को हो गए फरार, यह है मामला....

BIHAR NEWS: आरा के ‘गायक’ दारोगा को भोजपुर एसपी ने किया निलंबित, गिरफ्तारी से बचने को हो गए फरार, यह है मामला....

ARA: यूं तो हमने हमेशा ही गिरफ्तारी से बचने के लिए आम आदमी या अपराधियों के फरार होने की कहानियां सुनी हैं, मगर यहां मामला जरा अलग है। आरा जिले के एक दारोगा ही इन दिनों फरार चल रहे हैं। सभी को जेल की सलाखों के पीछे भेजने वाले दारोगा को खुद की गिरफ्तारी का इतना डर हो गया, कि वह फरार हो गए। इतना ही नहीं, उन्हें भोजपुर SP ने निलंबित भी कर दिया है और अब उनकी जोर-शोर से तलाश जारी है।

आरा के जगदीशपुर थाने में पोस्टेड दारोगा दिलीप कुमार निराला पर आरा में दबंग से मकान खाली कराने के नाम पर साढ़े 26 हजार रुपए घूस लेने का आरोप लगा है। इसे लेकर शिवगंज निवासी विश्वनाथ प्रसाद ने नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। दरोगा हाल तक नगर थाना में पोस्टेड था। विश्वनाथ प्रसाद की ओर से दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है- 'बेटी सुनीता देवी ने आरा नगर थाना के शिवगंज में एक मकान खरीदा है। अर्जुन प्रसाद, दिलीप प्रसाद दबंगई दिखाकर मकान में घुसने नहीं दे रहे थे। तब नगर थाना में पोस्टेड दारोगा दिलीप कुमार निराला से इसकी शिकायत की गई थी। इस पर दारोगा ने कहा कि मकान खुलवा देंगे, लेकिन खर्च करना पड़ेगा। खर्च के नाम पर 20 जुलाई को आर्य समाज मंदिर के पीछे दरोगा ने 26,500 रुपए लिए। तब मेरे बेटे ने रुपए देने का वीडियो बना लिया था। इस पर दारोगा आग बबूला हो गया और बेटे का 15,000 का मोबाइल छीन लिया।' इसी बीच दारोगा का तबादला जगदीशपुर हो गया।

विश्वनाथ प्रसाद को इसकी जानकारी मिलने पर उन्होंने दरोगा से बात की और मोबाइल की मांग की। इस पर दारोगा भड़क गए और कहा कि मोबाइल और रुपए लौटा दूंगा, लेकिन अब तक न तो मकान खाली कराया और ना ही मोबाइल लौटाया। दारोगा दिलीप कुमार निराला पर भ्रष्टाचार अधिनियम सहित तीन धाराओं में केस किया गया है। इसमें विश्वास का आपराधिक हनन और धोखाधड़ी का आरोप लगा है। भोजपुर SP विनय तिवारी ने बताया कि दरोगा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। सदर SDPO हिमांशु केस की जांच कर रहे हैं। उनकी रिपोर्ट के आधार पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। भ्रष्टाचार का आचरण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त किया जाएगा।

बता दें, यह वही दारोगा बाबू हैं, जिन्हें लॉकडाउन के दौरान काफी प्रसिद्धि मिली थी। लॉकडाउन के दौरा वह सड़कों पर हिंदी फिल्मों के गाने गाते लोगों को नियम का पाठ पढ़ाते नजर आए थे। फिलहाल पुलिस को उनकी तलाश है और वह फरार हैं।

Find Us on Facebook

Trending News