BIHAR NEWS: गर्मी बढ़ते ही कोरोना के बीच आने लगे AES के केस, SKMCH में कई बच्चे भर्ती

BIHAR NEWS: गर्मी बढ़ते ही कोरोना के बीच आने लगे AES के केस, SKMCH में कई बच्चे भर्ती

DESK: बिहार में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच बच्चों की जानलेवा बीमारी एईएस (AES) ने एक बार फिर दस्तक दे दी है. सोमवार की शाम तक मुजफ्फरपुर एसकेएमसीएच में 4 पीड़ि बच्चों को भर्ती कराया गया. इनमें से 3 बच्चों में एईएस की पुष्टि हो गई है. यह बीमारी मुख्य रूप से तेज गर्मी में मुजफ्फरपुर और उसके आसपास के क्षेत्रों में बच्चों के बीच देखी जाती है.

फिलहाल एईएस पीड़ित 6 बच्चे SKMCH के आईसीयू में भर्ती है. जो नए बच्चे एईएस की चपेट में आए हैं उनमें वैशाली की 3 साल की सोनाक्षी कुमारी, सीतामढ़ी के रुन्नीसैदपुर की 4 साल की रिया और मोतिहारी जिले के पताही गांव के 3 साल के पीयूष राज शामिल हैं.  इन सभी बच्चों में सोडियम और ग्लूकोज की काफी कमी है. इस साल एईएस के संदेह में अब तक कुल 8 बच्चों को एसकेएमसीएच में भर्ती कराया गया है, जिनमें दो बच्चों में इसकी पुष्टि नहीं हो पाई. 

एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ बीएस झा ने बताया है कि स्वास्थ्य मुख्यालय को इससे संबंधित तमाम जानकारी रिपोर्ट बनाकर दे दी गई है. एसकेएमसीएच के शिशु रोग विभाग के अध्यक्ष डॉक्टर गोपाल शंकर साहनी ने कहा है कि तेज धूप में रहने और पोषण में कमी की वजह से बच्चे इस बीमारी के शिकार हो रहे हैं. उन्होंने बच्चों के अभिभावकों से अपील की है कि बच्चे को थोड़ा-थोड़ा करके बार-बार खाना खिलाते रहें और पानी अवश्य पिलाएं. बच्चे धूप में नहीं जाए इसका ध्यान उनके परिजनों को रखना पड़ेगा. 

इसके बाद भी अगर किसी बच्चे में बुखार के साथ चमकी या उल्टी के लक्षण आते हैं तो उन्हें तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर ले जाएं. इधर जिला प्रशासन का दावा है कि इसको लेकर जागरूकता अभियान लगातार चल रहा है इसमें एएनएम आशा कार्यकर्ता और जीविका दीदियों के माध्यम से लोगों को पंपलेट देखकर एईएस के लक्षणों और उससे बचाव की जानकारी दी जा रही है.
 

Find Us on Facebook

Trending News