बेनीपट्टी हत्याकांड : अब भाजपा के इस सांसद ने पांच भाइयों की हत्या को बताया नरसंहार, कहा - पुलिस के निकम्मे अधिकारियों के कारण हुआ हादसा

बेनीपट्टी हत्याकांड : अब भाजपा के इस सांसद ने पांच भाइयों की हत्या को बताया नरसंहार, कहा - पुलिस के निकम्मे अधिकारियों के कारण हुआ हादसा

औरंगाबाद। मधुबनी के बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के महमदपुर गांव में होली के दिन तीन भाइयों और बीएसएफ के एएसआई समेत पांच की बेख़ौफ अपराधियों ने निर्मम हत्या के बाद बिहार की राजनीति गरमाई हुई है। जिसको लेकर आज औरंगाबाद सांसद सुशील कुमार सिंह ने अपने आवास स्थित प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर घटना की कड़ी निंदा करते हुए घटना को नरसंहार करार दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन में बैठे कुछ निक्कमे अधिकारी की वजह से इस तरह की घटनाएं घट रही हैं।

सांसद ने कहा कि घटना में शामिल किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि यह घटना की शुरूआत पोखर में मछली पकड़ने के वर्चस्व की लड़ाई को लेकर होली के दिन करीब 35 लोगों ने बेनीपट्टी के मोहम्मदपुर गांव पर हमला कर अंधाधुंध फायरिंग की जिसमें गोली लगने से दो सगे भाइयों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था। एक भाई की मौत अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई थी। घटना में होली की छुट्टी में घर लौटे बीएसएफ में एएसआई ने भी इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया था।श्री सिंह ने कहा कि अब तक इस घटना में 5 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि एक मरणासन्न है। इस मामले में वहीं 35 लोगों में अब तक 11 लोग को गिरफ्तार किया गया है, जबकि मुख्य अभियुक्त पुलिस के गिरफ्त से बाहर हैं। 

एनडीए में कई नेताओं ने जताई है नाराजगी

मधुबनी बेनीपट्टी में हुई वारदात पर नाराजगी जाहिर करनेवाले लोगों में औरंगाबाद के बीजेपी सांसद इकलौते नहीं है। इससे पहले बिहार सरकार में मंत्री नीरज कुमार बबलू सहित भाजपा के कई नेता भी इस घटना को नरसंहार करार दिया है और पुलिस के काम पर सवाल उठाए थे। एक दिन पहले ही बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम भी इस हत्याकांड को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की थी।

तालाब में मछली पकड़ने को लेकर हुआ था विवाद

इस घटना की शुरुआत 2020 में दो पक्षों में तालाब में मछली पकड़ने को लेकर विवाद शुरू हुआ था जिसमें पुलिस ने एकपक्षीय कार्रवाई करते हुए एक पक्ष के लोग को जेल भेजी थी जबकि दूसरे पक्ष पर कोई कार्यवाही नहीं हुई थी। इस घटना में जितना अपराधी जिम्मेवार है उतना ही पुलिस महकमा जिम्मेदार है। श्री सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं सरकार से मांग करते हुए कहा कि जिस घटना से लोगों का परिवार बर्बाद होता हो, लोगों का नींद और चैन छीनता हो, सुहाग उजड़ जाता हो एवं बच्चे अनाथ हो जाते है। इस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। श्री सिंह ने कहां है कि इस मुकदमे की स्पीडी ट्रायल होना चाहिए ताकि जल्द से जल्द फैसला आ सके और अपराधियों तथा दोषियों को सजा मिल सके। 

Find Us on Facebook

Trending News