Bihar News : सीएम नीतीश कुमार ने 23 मार्च की घटना पर जताया खेद, क्या विपक्ष का गुस्सा होगा खत्म!

Bihar News : सीएम नीतीश कुमार ने 23 मार्च की घटना पर जताया खेद, क्या विपक्ष का गुस्सा होगा खत्म!

Patna. : बिहार की राजनीति में 23 मार्च का दिन हमेशा याद रखा जायगा। इस दिन विधानसभा में वह हुआ, जो आजादी के बाद देश में पहले कभी नहीं हुआ है, वह यह कि सदन का कार्यवाही के दौरान पुलिस बल अंदर प्रवेश कर जाए और विधायकों को घसीटते हुए बाहर ले जाए। इस घटना को लेकर जहां देश में विपक्ष में शामिल तमाम बड़ी पार्टियों ने आलोचना की है. वहीं अब बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी इस घटना को लेकर अपना खेद जाहिर किया है। उन्होंने कहा सरकार कभी सदन के फैसलों में दखल नहीं देती है। उक्त बातें उन्होंने विधान परिषद में बजट सत्र के अंतिम दिन कराए गए फोटो शूट के दौरान कही।

सीएम ने कहा कि  विरोधी दल के विधायक ने जिस तफह का व्यवहार किया है इसपर अध्यक्ष ही कार्रवाई कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा मे अध्यक्ष और सभापति का अधिकार होता है किसी तरह की कार्रवाई करने के लिए खुद से फैसला लें। सरकार का किसी तरह का कोई अधिकार नही होता है। अध्यक्ष किसी प्रकार की कार्रवाई के लिए स्वतंत्र होता है। 

विपक्ष के आरोपों को बताया निंदनीय

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि विधायकों के साथ जिस तरह का व्यवहार हुआ वह चिंताजनक है। उन्होंने तेजस्वी यादव के बोलने नहीं देने के आरोपो को निंदनीय करार देते हुए कहा कि विपक्ष ने सदन में विधेयक को पारित होने से रोकने के लिए घंटों तक अध्यक्ष को उनके ही चैंबर में बंद कर दिया। यह कहां तक जायज था। सभी मीडिया ने इसे दिखाया। इस दौरान उन्होंने नए विधायकों के लिए सदन के काम को अच्छी तरह से समझने के लिए सेमिनार आयोजन करने की बात कही।

क्या खत्म होगी विपक्ष की नाराजगी

अब नीतीश कुमार ने मंगलवार की घटना को लेकर खेद जाहिर कर दिया है, ऐसे में सवाल यह है कि क्या अब विपक्ष की नाराजगी खत्म होगी। बता दें कि विपक्ष ने मांग की थी कि कल की घटना के लिए माफी मांगे, नहीं तो पांच साल तक विधान मंडल का बहिष्कार किया जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News