BIHAR NEWS: राजद की मांग: स्थानांतरण प्रक्रिया को और व्यवहारिक बनाये राज्य सरकार, पुरुष शिक्षकों की स्थानांतरण प्रक्रिया अव्यवहारिक

BIHAR NEWS: राजद की मांग: स्थानांतरण प्रक्रिया को और व्यवहारिक बनाये राज्य सरकार, पुरुष शिक्षकों की स्थानांतरण प्रक्रिया अव्यवहारिक

पटना: राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने गुरुवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि राज्य सरकार की स्थानान्तरण प्रक्रिया अव्यवहारिक है और इससे विशेष रूप से पुरुष शिक्षकों को बहुत तकलीफ है। 

चितरंजन गगन ने कहा कि नियोजित शिक्षकों की नई सेवा नियमावली मे महिला एवं दिव्यांग शिक्षकों को एक बार स्वैच्छिक स्थानांतरण का लाभ दिया गया है जबकि पुरूष शिक्षकों को सिर्फ मैच्युअल स्थानांतरण की सुविधा प्रदान की गई है। पुरुष शिक्षकों के म्यूचुअल स्थानांतरण की प्रक्रिया इतना अव्यवहारिक है कि इसका लाभ शायद ही किसी को मिल सके। यह मामला पुरूष शिक्षकों में अवसाद का एक कारण बन गया है और अवसाद की वजह से कई जगह आत्महत्या जैसी घटनाएं एवं आकस्मिक मृत्यु भी हो रही हैं।

उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान की धारा 15 के अनुसार देश की कोई भी सरकार किसी भी तरह की सुविधा प्रदान करने के लिए " जाति,धर्म,लिंग या क्षेत्र " के आधार पर भेदभाव नही कर सकती। जबकि शिक्षक/शिक्षिका सेवा नियमावली 2020 मे लिंग के अधार पर स्थानांतरण की सुविधा दी गई है, जो संविधान की धारा 15 का सीधा उल्लंघन है। सरकार की मंशा गुणवत्तापूर्ण देने की नहीं है सरकार आपस में नियोजित शिक्षकों को लडाने एवं बांटने का कार्य कर रही है। सरकार को चाहिए कि किसी प्रकार शिक्षकों की बीच मे भेदभाव नहीं हो, सबके हित में एक समान नियम बनायें। 

प्रदेश प्रवक्ता ने मांग किया कि पुरुष शिक्षकों को भी महिलाओं की तरह स्वैच्छिक स्थानांतरण का लाभ मिले क्योंकि पुरुष शिक्षकों को भी अपने घरों से सैकड़ों किलोमीटर दूर रहकर ड्यूटी करनी पड़ रही है। उन्हे भी अपने परिवार के साथ रहना है। उन्होंने स्थानान्तरण प्रक्रिया को व्यवहारिक बनाने की मांग की है जिससे शिक्षकों को इस विकट समस्या से निजात मिल सके।



Find Us on Facebook

Trending News