महंगी हुई बिजली : बिहार में बिजली उपभोक्ताओं को अब इतने पैसे देने होंगे प्रति यूनिट ज्यादा,किसानों को भी झटका

महंगी हुई बिजली : बिहार में बिजली उपभोक्ताओं को अब इतने पैसे देने होंगे प्रति यूनिट ज्यादा,किसानों को भी झटका

PATNA : कैबिनेट में लिए गए फैसले के बाद अब बिहार के बिजली उपभोक्ताओं को अब बढ़ी हुई दर से बिजली बिल भरना होगा। राज्य में करीब डेढ़ करोड़ से अधिक बिजली उपभोक्ता हैं. बिहार विद्युत विनियामक आयोग की ओर से  लिए गए निर्णय पर  नीतीश सरकार ने कैबिनेट बैठक के दौरान अपनी मुहर लगा दी है। बिहार विद्युत विनियामक आयोग के फैसले पर सरकारी मुहर लग जाने के बाद उपभोक्ताओं को 0.63 फ़ीसदी के हिसाब से बिजली बिल जमा करना होगा.

5 से लेकर 35 पैसे प्रति यूनिट की अधिक की दर से करना होगा बिजली बिल का भुगतान

बता दें कि उपभोक्ताओं को बिजली बिल में अनुदान देने के लिए राज्य सरकार 6043 करोड रुपए खर्च करेगी. वहीं बिजली कंपनी जितना अनुदान वित्तीय वर्ष 2020-21 में दे रही थी उतना ही वित्तीय वर्ष 21-22 में भी देगी .बिहार विद्युत विनियामक आयोग ने अपना फैसला राज्य सरकार के पास भेजा था जिस पर नीतीश सरकार ने मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में मुहर लगा दी .अब उपभोक्ताओं को 5 से 35 पैसे तक प्रति यूनिट अधिक की दर से बिजली बिल का भुगतान करना होगा. यह निर्णय सभी तरह की श्रेणियों को मिला देने के बाद आता है . हालांकि सरकार के इस निर्णय के बाद उपभोक्ताओं को 1 फ़ीसदी से कम यानी मात्र 0.63 फ़ीसदी की बढ़ोतरी ही बिजली बिल में दिख रही है.

किसानों को पहले 65 पैसा प्रति यूनिट देना होता था अब. 

विनियामक आयोग के फैसले पर सरकार के मुहर लग जाने के बाद से किसानों को 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से बिजली बिल चुकाने के बजाय अब 70 पैसे प्रति यूनिट बिजली बिल भरना होगा.

गौरतलब है कि किसान 31 मार्च तक 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से खेती के लिए बिजली का उपयोग कर रहे थे. इसी तरह गरीबों के लिए लागू कुटीर ज्योति योजना में अब निम्न वर्गीय परिवारों को 2 रुपये 12 पैसे प्रति यूनिट की दर से बिजली बिल देना होगा. जबकि किसान और निम्न वर्गीय यानी कुटीर ज्योति योजना में सरकार के द्वारा सोलह सौ करोड़ से अधिक की राशि अनुदान मद में खर्च की जाएगी.

Find Us on Facebook

Trending News