BIHAR NEWS: शर्मनाक! परिवार गिड़गिड़ाता रहा, मगर साहब को लगा फाइन जरूरी, चली गई संक्रमित की जान

BIHAR NEWS: शर्मनाक! परिवार गिड़गिड़ाता रहा, मगर साहब को लगा फाइन जरूरी, चली गई संक्रमित की जान

AURANGABAD: औरंगाबाद डीटीओ का एक बार फिर संवेदनहीनता सामने आया है। परिजन बिना हेलमेट पहने जरूरी दवा लेने बाहर चले गए। इस दौरान डीटीओ ने उन्हें वाहन चेकिंग के लिए रोक लिया। परिजनों ने लाख हालात का हवाला देने की कोशिश की, मगर पुलिसकर्मियों ने उनकी एक नहीं सुनी। लिहाजा, परिजन को अस्पताल पहुंचने में देर हो गई और कोविड संक्रमित की मौत हो गई। इस मामले में जितने दोषी डीटीओ हैं, उतने ही दोषी अस्पताल कर्मी भी हैं, क्योंकि उनके पास आड़े वक्त के लिए जरूरी संसाधन ही नहीं था। 

ओबरा थाना क्षेत्र के उच्चकुंडा गांव निवासी कुंवर सिंह की 8 मई को कोरोना पॉजिटिव आई। पहले उनका घर पर ही इलाज चला। हालत गंभीर होने पर बाद में उन्हें इलाज के लिए पीएनबी कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया गया था। देर शाम लेकिन देर शाम अचानक उनकी तबीयत बिगड़ने लगी जिसके बाद चिकित्सकों ने उनके परिजनों को दवा और ऑक्सीजन पाइप लाने को कहा। परिजन हड़बड़ाहट में बिना हेलमेट लगाए बाइक से दवा और ऑक्सीजन पाइप लेने निकल गए। रास्ते में रमेश चौक पर वाहन चेकिंग के दौरान डीटीओ ने उन्हें पकड़ लिया और फाइन की मांग करने लगे। परिजन जानते थे गलती उनकी है, मगर उनके पास केवल दवा के लिए पैसे थे। युवक डीटीओ साहब के सामने अपने हालात का हवाला देने लगा और छोड़ देने के लिए गिड़गिड़ाने लगा, मगर डीटीओ साहब ने उसकी बातों को नजरअंदाज कर दिया। अंततः युवक को अपनी बाइक वहीं छोड़नी पड़ी। पैदल ही परिजन दवा और ऑक्सीजन पाइप लेकर कोविड सेंटर पहुंचे, तब तक देर हो चुकी थी। डॉक्टरों ने मरीज को मृत बताते हुए देर से आने की बात कही।

कोरोना काल मे जहां डॉक्टर से लेकर तमाम स्वास्थ्यकर्मी दिन-रात मरीजों की देखभाल में लगे हैं. वहीं दूसरी तरफ कुछ ऐसे अधिकारी भी है जो मानवता को शर्मसार कर रहे हैं। मृतक के परिजनों ने डीटीओ पर आरोप लगाया और कहा कि मौत के जिम्मेवार डीटीओ साहब ही है। बहरहाल यह देखना होगा कि आलाधिकारी कब इन पर कार्रवाई करते हैं। आपको बता दें, इन डीटीओ साहब के चर्चे पहले भी रहे हैं। साल 2020 में जब लॉकडाउन लगा था, तब प्रवासी मजदूरों के रोटी मांगने पर दबंग डीटीओ साहब ने उसे मुक्कों की बारिश की थी। हाल ही में 7 दिन पहले वाहन चेकिंग के दौरान भी डीटीओ साहब ने स्कार्पियो चालक से अभद्र व्यवहार किया था।


Find Us on Facebook

Trending News