BIHAR NEWS: हवा में घुल गई सरकार की फ्लड फाइटिंग, पीड़ितों तक नहीं पहुंची सहायता, प्रभावितों का पलायन जारी

BIHAR NEWS: हवा में घुल गई सरकार की फ्लड फाइटिंग, पीड़ितों तक नहीं पहुंची सहायता, प्रभावितों का पलायन जारी

BETTIAH: बिहार में वक्त से पहले आई बाढ़ ने पश्चिम चंपारण जिले को बेहाल कर रखा है। लगातार हो रही बारीश से पश्चिम चंपारण जिले के कई गाईड बांध ध्वस्त हो गए हैं। सरकार द्वारा कराई जा रही बाढ़ पूर्व तैयारी का भंडाफोड़ हो गया। सरकार जो करोड़ों रुपए फ्लड फाइटिंग के नाम पर खर्च कर रही है, उसका कहीं इस्तेमाल होता नजर नहीं आ रहा है। अगर सरकारी राशि का कहीं इस्तेमाल होता, तो आज जिले के हालात ऐसे नहीं होते, जैसे अभी हैं।

जिले के सभी नदियों का जलस्तर जहां बढ़ा है। वहीं गाइड बांध टूटने से सैकड़ों गांवों मे तेजी से पानी प्रवेश कर रहा है। गांव में पानी घुसने से सैंकड़ों एकड़ में लगी गन्ने की फसल बर्बाद हो गई है। वहीं धान रोपनी को लेकर भी संशय बरकरार है। पश्चिम चंपारण की गंडक नदी पर यूपी को जोड़ने वाली गौतम बुद्ध सेतु का 42 नंबर पाया टूट गया है। वहीं मशान नदी का बाया गाइड बांध कटहरवा गाव के पास कल देर शाम टूट गया। बांध के टूटने से नदी का पानी दोन नहर होते हुए रमरेखा नदी मे प्रवेश कर रहा है, जिससे उस नदी का पानी भी खतरे के निशान से ऊपर प्रवेश कर रहा है। वहीं गंडक नदी मे बढ़ते जलस्तर से बैरिया, नौतन, भीतहा, मधुबनी, धनहा, ठकराहा, पिपरासी, योगापट्टी प्रखण्ड के नदी किनारे बसे ग्रामीण ऊंचे स्थानों पर पलायन कर रहे हैं। 

वही वाल्मीकिगंडक बराज से शुक्रवार दोपहर एक बजे तक 2 लाख 67 हजार 200 क्यूसेक पानी अपस्ट्रीम से लो स्ट्रीम गंडक नदी में प्रवाह किया गया। इस संबंध मे ग्रामीणों का कहना है की बाढ़ ने हमलोगों का सब कुछ बर्बाद कर दिया पर अभी तक कोई अधिकारी हमलोगों की सुधि लेने नहीं पहुंचा है। हमलोग कैसे जी रहे हैं, क्या खा रहे हैं, कोई पूछने वाला नही हैं। इस बाढ़ में लोगों का लाखों-लाखों का नुकसान हो गया है, मगर अबतक कोई सहायता उनतक नहीं पहुंची है।


Find Us on Facebook

Trending News