BIHAR NEWS: जीवन की वैक्सीन पर अज्ञानता हावी, गांवों में कैसे होगा शत-प्रतिशत टीकाकरण?

BIHAR NEWS: जीवन की वैक्सीन पर अज्ञानता हावी, गांवों में कैसे होगा शत-प्रतिशत टीकाकरण?

BHAGALPUR: कोरोना की लड़ाई में सबसे सशक्त हथियार वैक्सीन साबित हुआ है. शहरों में तो लोग बढ़-चढ़कर वैक्सीन लेने आगे आ रहे हैं, मगर ग्रामीण इलाकों में शत प्रतिशत वैक्सीनेशन करवाना किसी चुनौती से कम नहीं है. विभिन्न प्रखंडों के स्वास्थ्य कर्मी इस तरह की समस्या जूझ रहे हैं. नवगछिया अनुमंडल के विभिन्न पीएचसी स्तर से रवाना किये गए टीका एक्सप्रेस को बुधवार के दिन भी कई जगहों से वापस लौटना पड़ा. 

गोपालपुर पीएचसी से टीका एक्सप्रेस जब अभिया गाछी टोला पहुंची तो देखते ही देखते स्थानीय लोगों को पता चल गया कि उक्त वाहन के साथ पूरी टीम वैक्सीनेशन करने आयी है. इसके बाद ग्रामीणों ने कई तरह की उट पटांग तथ्यहीन बातों को टीम के सामने रखा. गांव प्रवेश करते ही एक व्यक्ति ने कहा कि सुइया देने आए हैं क्यों? स्वास्थ्य कर्मी ने कहा कोरोना को हराना है. इस पर उस व्यक्ति ने कहा यहां कहां है कोरोना जो सुई देने चले आए हैं. तभी एक महिला ने कहा बीडीओ ने खुद कोरोना का टीका नहीं लिया, मगर हमें टीका दिलाने में लगे हुए हैं. यहां कोई बीमारी नहीं है, आपलोग यहां से चले जाएं. वहीं दूसरी महिला ने स्वास्थ्य टीम को बताया कि उसे कोरोना का टीका लगाया गया था. उसके बाद इसे काफी तकलीफ हुई, रोजमर्रा के काम करने में दिक्कतें हुई. यही बातें जब अन्य गांववालों ने सुनी तो सभी टीका लेने से डरने लगे. पीएचसी की टीम ने सभी को समझाया बुझाया लेकिन बात नहीं बनी. 

स्वास्थ्य विभाग की टीम को यह भी जानकारी मिली कि लोग गलत सूचना के चलते टीका लेने से डर रहे हैं. उन्हें किसी ने कह दिया है कि पास के गांव में टीका लेने के बाद 10 लोगों की मौत हो गई, जिससे सभी भयाक्रंत हैं. टीम ने लोगों को समझाया भी कि आपको झूठी सूचना मिली है, किसी भी गांव में सुई लेने के बाद कोई नहीं मरा है. अंततः लोग नहीं माने. 

टीका एक्सप्रेस द्वारा किए जा रहे वैक्सिनेशन के प्रति अफवाह और उदासीनता को देखते हुए नवगछिया अनुमंडल अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ बरुण ने लोगों से गंवई भाषा में अपील भी की. उन्होनें लोगों से अपील करते हुए कहा है कि सुई लेने से कोई खतरा नहीं है. कोरोना से यही सुई बचाएगी. सब काम छोड़कर पहले सुई ले लें. डॉ बरुण ने कहा कि वैक्सिनेशन के प्रति तरह-तरह की अफवाहें फैलायी गयी हैं. नवगछिया शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में 24 हजार से अधिक लोग वैक्सीनेशन करवा चुके हैं. किसी को कोई दिक्कत नहीं है. इससे बड़ा उदाहरण क्या होगा. डॉ बरुण ने सामाजिक संगठनों और जनप्रतिनिधियों को इस संदर्भ में जगरूकता अभियान चलाने की अपील की है.

Find Us on Facebook

Trending News