BIHAR NEWS : मेडिकल और इंजिनियरिंग कॉलेजों में लड़कियों के 33 फीसदी आरक्षण से भी खुश नहीं हैं मांझी, सीएम नीतीश के सामने कर दी अब यह मांग

BIHAR NEWS : मेडिकल और इंजिनियरिंग कॉलेजों में लड़कियों के 33 फीसदी आरक्षण से भी खुश नहीं हैं मांझी, सीएम नीतीश के सामने कर दी अब यह मांग

PATNA : बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के दिमाग को पढ़ना किसी राजनीतिक विशेषज्ञ के लिए बड़ी चुनौती बनती जा रही है। मांझी की नैया कब किस किनारे की तरफ जाएगी, यह कहना मुश्किल है। कभी वह नीतीश सरकार के काम पर सवाल उठाते हैं, कभी धन्यवाद देते हैं। दो दिन पहले पहले यह अनुमान लगाया जा रहा कि कि मांझी नीतीश का साथ छोड़ सकते हैं, फिर अचानक बुधवार को मांझी यह कहते नजर आते हैं कि वह मरने तक नीतीश का साथ नहीं छोड़ेंगे। अब एक बार मांझी ने नीतीश कुमार के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी है। 

इस बार कोई राजनीतिक नहीं, बल्कि बिहार की लड़कियों की मुफ्त शिक्षा से जुड़ा है। एक दिन पहले ही सीएम नीतीश कुमार ने यह घोषणा की थी कि बिहार के तमाम इंजिनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में 33 फीसदी आरक्षण लड़कियों के लिए सुनिश्चित किया गया है। अब इस आरक्षण के फैसले को लेकर भी मांझी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। सीएम नीतीश के इस फैसले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री धन्यवाद तो दिया है, लेकिन साथ ही उनके सामने एक नई मांग भी रख दी है।


आरक्षण से खुश नहीं, मुफ्त शिक्षा की मांग

पूर्व मुख्यमंत्री ने सीएम नीतीश के लड़कियों को 33 फीसदी आरक्षण देने की मांग को नाकाफी बताया है। उन्होंने कहा कि आरक्षण का फैसला सही है, लेकिन इसमें और सुधार किया जाना चाहिए। मांझी ने मांग की है कि  सामान्य शिक्षा एवं व्यवासायिक शिक्षा में लगे छात्राओं को मुफ्त शिक्षा की व्यवस्था की जाय। ताकि गरीब परिवार की बेटियां भी मेडिकल और इंजिनियरिंग की पढ़ाई कर सके। मांझी ने बताया कि उनकी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में भी लड़कियों की उच्च शिक्षा मुफ्त करने की बात कही थी, जिसे सरकार को लागू करना चाहिए।

बता दें कि मांझी ने इससे पहले पशुपालन मंत्री मुकेश सहनी से मुलाकात की थी, जिसके बाद से बिहार की राजनीतिक गलियारे में नए समीकरण और मौजूदा राज्य सरकार के गिरने की संभावना दिखने लगी थी।


Find Us on Facebook

Trending News