BIHAR NEWS: नक्सलियों ने जारी किया पोस्टर, 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाने का किया आह्वान, सरकार से की यह मांग...

BIHAR NEWS: नक्सलियों ने जारी किया पोस्टर, 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाने का किया आह्वान, सरकार से की यह मांग...

AURANGABAD: जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र के उत्तर कोयल नहर के समीप बढ़ई बिगहा गांव के पास नक्सलियों ने पर्चा छोड़ा है। नक्सलियों के पर्चा छोड़ने से क्षेत्र में दहशत का माहौल है। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी माओवादी द्वारा छोड़े पर्चे पर लिखा है कि 28 जुलाई से 03 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाया जायेगा। इस अवसर पर शहीदों की याद में नतमस्तक होकर शहीदों के अधूरे कार्यों को पूरा करने के लिए शपथ लें। पार्टी पीएलजीए और जन संगठन सहित व्यापक जनता शहीद दिवस को जोर-शोर से पालन करें।

विश्व सर्वहारा क्रांति के संस्थापक नेता व शिक्षक कामरेड मार्क्स, एंगेल्स, लेनिन, स्टालिन और माओ को लाल सलाम, भारतीय क्रांति के वर्गवीर योद्धा संस्थापक व शिक्षक कामरेड चारु मजूमदार व कामरेड कन्हाई चटर्जी को लाल सलाम लिखा गया है। वहीं स्थानीय मृत नेताओं के लिए अमर शहीद कामरेड पीएनजी, कामरेड बुद्धेश्वर, कामरेड रवि, कामरेड अमरेश, कामरेड शिवपूजन, कामरेड सीता, कामरेड उदय को लाल सलाम, बिहार झारखंड के वीर शहीदों को लाल सलाम, भारतीय क्रांति में शहीद हुए व्यापक साथियों को लाल सलाम लिखा गया है। इसके अलावा शहादत की गौरवमयी परंपरा को जारी रखकर शोषणहीन, वर्गहीन समाज निर्माण के लक्ष्य से आगे बढ़ने को शपथ लेने को कहा गया है। उन्होंने सरकार से ऑपरेशन ग्रीन हंट, मिशन समाधान और जनता के विरुद्ध युद्ध को तत्काल बन्द करने की मांग की है।

हालांकि नक्सलियों की सफाई के लिए प्रशासन द्वारा लगातार पुलिस अभियान चलाया जा रहा है।  जिसमें सीआरपीएफ, एसएसबी के साथ-साथ जिला पुलिस के जवान भी सर्च अभियान में जंगल व पहाड़ी इलाके की टोह ले रहे हैं।  इसके बाद भी नक्सलियों का पोस्टर चिपकाया जाना कहीं न कहीं नक्सली गतिविधियों को दर्शाता है।इस संबंध में एएसपी अभियान शिव कुमार राव से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं मिली है।  लेकिन अगर नक्सलियों द्वारा पोस्टर फेंका गया है तो यह उनके बौखलाहट का परिणाम है। अगर नक्सली समाज के मुख्यधारा से नहीं जुड़ते हैं तो उनका खात्मा तय है। नक्सलियों की धरपकड़ के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है, जो नक्सली समाज के मुख्य धारा से जुड़ेंगे उन्हें सरकार के सरेंडर पॉलिसी का लाभ मिलेगा।

Find Us on Facebook

Trending News