बिना हेलमेट गाड़ी चलाने पर चालान काटकर बुरी तरह से फंस गए थानाध्यक्ष , डीटीओ ने भी पल्ला झाड़ा, जानिए क्या है पूरा मामला

बिना हेलमेट गाड़ी चलाने पर चालान काटकर बुरी तरह से फंस गए थानाध्यक्ष , डीटीओ ने भी पल्ला झाड़ा, जानिए क्या है पूरा मामला

BIHARSHARIF  : बिना हेलमेट बाइक चलाने पर जुर्माना किया जाता है, लेकिन कभी कभी जुर्माना लगाना भारी पड़ जाता है। जैसा कि नालंदा जिले के सोहसराय थानाध्यक्ष को उठाना पड़ रहा है। जिन्होंने जल्दबाजी में बिना हेलमेट पहने गाड़ी चलाने पर एक हजार का जुर्माना लगा दिया। अब इस जुर्माने को लेकर उन्हें नोटिस भेजा गया है कि ऐसा उन्होंने किस नियम के तहत किया है।

नोटिस भेजनेवाले का नाम थरथरी थाना क्षेत्र के खरजम्मा निवासी केशव कुमार बताया गया है। बकौल केशव कुमार के अनुसार  22 मार्च को वह बिहारशरीफ से घर लौट रहा था। उसी दौरान सोहसराय थाना क्षेत्र के किसान कॉलेज व 17 नंबर के बीच पुलिस ने उसकी ई स्कूटी रोक कर कागजात व हेलमेट की मांग की। जब युवक ने बताया कि ई स्कूटी चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन या हेलमेट की जरूरत नहीं होती, क्योंकि इसकी अधिकतम स्पीड 25 किमी प्रति घंटा है। इसके बावजूद पुलिस ने उनके वाहन का चालान काट दिया।

केशव का कहना है कि उन्‍होंने पुलिस को कंपनी का दिया गया कार्ड भी दिखाया, जिस पर स्पष्ट लिखा था कि इसकी स्पीड 25 किमी प्रति घंटे से कम है। इस वाहन को मोटर व्हीकल एक्ट के अनुसार, बिना लाइसेंस व बिना पंजीकरण के चलाया जा सकता है। हेलमेट पहनना ऐच्छिक है, इसकी बाध्यता नहीं है। केशव की मानें तो कागजात दिखाने के बावजूद इसके पुलिस ने लाल चालान काट दिया और स्कूटी को जब्त कर पुलिस थाने ले गई।

डीटीओ ने पावती देने से किया इनकार

इससे पहले थानाध्यक्ष ने लाल चालान के आधार पर डीटीओ ऑफिस में बिना हेलमेट मामले में एक हजार रुपए फाइन जमा कराकर पावती लाकर देने को कहा था। जब युवक डीटीओ कार्यालय पहुंचा तो वहां कार्यालय के कर्मी ने कहा कि जब प्रावधान ही नहीं है तो हम फाइन किसका काटें। थक-हारकर युवक थानाध्यक्ष के पास दोबारा पहुंचा तो उन्होंने खुद चालान काट दिया और एक हजार रुपए जमा लेकर स्कूटी छोड़ दी।

कोर्ट का भेज दिया नोटिस

नियम विरुद्ध तरीके से चालान काटने व नाहक छह दिनों तक ई स्कूटी जब्त रखने के मामले में युवक ने कोर्ट की शरण ले ली। कहा कि उसका ड्राइविंग लाइसेंस है। ई स्कूटी पर हेलमेट पहनना अनिवार्य नहीं है। फिर भी उस पर जुर्माना कर दिया गया। गुरुवार को अधिवक्ता सुनील कुमार पांडेय के माध्यम से सोहसराय थानाध्यक्ष को वकालतन नोटिस भेजी गई है। एक-दो दिन में युवक लोक शिकायत निवारण कोषांग में भी शिकायत दर्ज कराएगा। 

Find Us on Facebook

Trending News