BIHAR NEWS: ड़ेढ हजार छात्रों की याचना, मानसिक रूप से प्रताड़ित न करें बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग, न्याय के लिए छात्रों ने लगायी हाइकोर्ट से गुहार

BIHAR NEWS: ड़ेढ हजार छात्रों की याचना, मानसिक रूप से प्रताड़ित न करें बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग, न्याय के लिए छात्रों ने लगायी हाइकोर्ट से गुहार

पटना: सूबे के करीब डेढ हजार छात्रों ने बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग से न्याय करने की याचना की है। छात्रों ने इस बाबत पटना हाइकोर्ट से गुहार भी लगायी है।ज्ञात हो कि बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा दारोगा, सार्जेंट व कारा अधीक्षक के लिए 2446 पदों पर रिक्तियां निकाली गयी थी। जिसकी शारीरिक दक्षता परीक्षा गत 22 मार्च से 12 अप्रैल तक आयोग द्वारा निर्धारित की गयी थी। छात्रों ने बताया कि इसके लिए शारीरिक दक्षता परीक्षा केंद्र गर्दनीबाग में बनाया गया गया था। इस केंद्र पर बारबार यह सूचना प्रसारित की जा रही थी कि जो भी छात्र अस्वस्थ हैं, उनको नयी तिथि प्रदान की जायेगी। इसके लिए वह अपना मेडिकल आवेदन काउंटर पर जमा कर सकते हैं। कई ऐसे छात्र थे, जो अलग-अलग बीमारियों से त्रस्त थे। उनमें कुछ ऐसे भी छात्र थे, जिनको कोरोना हो गया था और प्रशासन ने उन्हें 15 दिनों के लिए होम आइसोलेशन में रखा था। ऐसे में वह शारीरिक दक्षता परीक्षा में शामिल नहीं हो सकते थे।

नहीं दी जा रही है सही जानकारी

इन छात्रों का कहना है कि आयोग द्वारा उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। करीब पंद्रह सौ ऐसे छात्र हैं जिन्होंने अपना मेडिकल आवेदन जमा किया था लेकिन आयोग द्वारा इस बारे में किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं दी जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने आरटीआइ भी लगाया लेकिन उसका भी कोई जवाब नहीं दिया गया। हालांकि छात्रों ने यह जरूर बताया कि अनाधिकारिक रूप से उनको यह जानकारी मिली कि इन सभी छात्रों को हटाकर रिजल्ट निकालने की तैयारी कर दी गयी है। यहां तक कहा जा रहा है कि जिन छात्रों ने अपना मेडिकल आवेदन जमा कर दिया है, उनको आयोग द्वारा नहीं लिया जायेगा। अगर वह कोर्ट में जायेंगे तो उनके पक्ष को सुना जा सकता है। 

मानसिक रूप से हो रहे हैं प्रताडित

इस परीक्षा में शामिल छात्रों का कहना है कि किसी भी प्रकार से कोई सहायता नहीं मिलने के बाद वह अब मानसिक उत्पीडन के शिकार हो रहे हैं और खुद को बिना शारीरिक दक्षता परीक्षा दिये ही इस बहाली प्रक्रिया से खुद को बाहर महसूस कर रहे हैं। इस पूरी प्रक्रिया और आयोग की कार्यशैली को लेकर 339 छात्रों ने पटना हाइकोर्ट में एक याचिका दायर कर के न्याय की गुहार लगायी है। छात्रों ने सीएम नीतीश कुमार व बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग के अध्यक्ष से भी निवेदन किया है कि वह इस समस्या पर निर्णय लें ताकि इतनी बड़ी संख्या में छात्र उत्पीड़न से बच सकें।  

Find Us on Facebook

Trending News