पूर्व शिक्षा मंत्री के निधन पर सियासत शुरू, विपक्ष ने कहा - अपने विधायक को इलाज मुहैया नहीं करा सकी सरकार, स्वास्थ्य व्यवस्था की खुली पोल

पूर्व शिक्षा मंत्री के निधन पर सियासत शुरू, विपक्ष ने कहा - अपने विधायक को इलाज मुहैया नहीं करा सकी सरकार, स्वास्थ्य व्यवस्था की खुली पोल

PATNA : बिहार के पूर्व शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी की कोरोना से मौत हो गई है। अब दिवगंत तारापुर विधायक को लेकर बिहार में सियासत तेज हो गई है। विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी राजद ने राज्य सरकार पर बड़ा हमला बोला है। विपक्ष के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि जिस तरह से मेवालाल चौधरी की मृत्यु हुई है तो यह सरासर सरकार की पोल खोलता है कि आखिर सरकार की क्या व्यवस्था है क्योंकि सत्ता पक्ष के विधायकों को जनप्रतिनिधियों को नहीं बचा पा रहे हैं तो आम जनता का क्या हाल होगा।

उन्होने दिवगंत विधायक के निधन पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि  इस दुख की घड़ी में परिवार को लड़ने की ताकत मिले। उन्होंने कहा है कि मेवालाल चौधरी की आत्मा को प्रभु शांति प्रदान करें और वही सरकार के ऊपर सवाल खड़े किए हैं। इस दौरान मृत्यूंजय तिवारी ने कहा कि जिस तरह के एक निजी अस्पताल में पूर्व मंत्री को इलाज की सुविधा नहीं मिल पाने के कारण मौत हुई है। वह यह बताता है कि सरकार की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर किस तरह की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि सरकार की पूरी व्यवस्था चरमरा गई है। लोगों की जान जा रही है। जमीन हकीकत पर सरकार की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गई है। उन्होंने इस बात पर चिंता जाहिर करते हुए कि कहा कि क्या सरकार की व्यवस्था इतनी भी सक्षम नहीं है कि अपने ही दल के विधायक को इलाज की सुविधा मुहैया करा सके। 

बता दें कि मेवालाल चौधरी कुछ दिन पहले कोरोना से ग्रसित पाए गए थे। जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए पारस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां सोमवार तड़के उनकी मौत हो गई। उनके निधन पर सीएम नीतीश कुमार, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सहित सभी बड़े नेताओं ने अपनी श्रद्धाजंली दी है।


Find Us on Facebook

Trending News