BIHAR NEWS : एक माह बाद खत्म हो जाएगा मौजूदा पंचायत जनप्रतिनिधियों का कार्यकाल, जानें चुनाव नहीं होने का क्या है विकल्प

BIHAR NEWS : एक माह बाद खत्म हो जाएगा मौजूदा पंचायत जनप्रतिनिधियों का कार्यकाल, जानें चुनाव नहीं होने का क्या है विकल्प

PATNA : बिहार में यह लगभग तय है कि पंचायत चुनाव फिलहाल नहीं होंगे। वहीं मौजूदा पंचायत के जनप्रतिनिधियों का कार्यकाल 30 जून को समाप्त हो रहा है। ऐसे में कार्यकाल समाप्त होने के बाद पंचायतों का संचालन किस प्रकार किया जाएगा, इसको लेकर मंथन शुरू हो गया है। राज्य सरकार इससे जुड़े सभी पहलुओं और कानूनी पक्षों पर गहन विचार-विमर्श कर रही है.विधि विभाग से भी इसे लेकर सभी कानूनी पहलुओं पर जानकारी प्राप्त की जा रही है, क्योंकि ऐसी परिस्थिति से निबटने के लिए पंचायती राज कानून में कोई ठोस प्रावधान का उल्लेख नहीं है। इसे देखते हुए माना जा रहा है कि राज्य सरकार इस मसले पर अध्यायदेश ला सकती है। हालांकि सरकार की परेशानी यह है कि कोरोना की वजह से विधानसभा सत्र भी बुलाना संभव नहीं होगा, जहां से पंचायतों के कार्यकाल को बढ़ाने से संबंधित कोई कानून पास कराया जा सके।

चुनाव तक बढ़ेगा कार्यकाल

बताया जा रहा है कि पंचायतों के कार्यकाल को लेकर 10 से 15 दिनों में ठोस निर्णय ले लिया जायेगा. अध्यायदेश लाने के पहले इसे कैबिनेट से पारित किया जायेगा. इसके बाद इस पर राज्यपाल के अंतिम हस्ताक्षर होंगे और यह अध्यायदेश लागू हो जायेगा.इस बात की ज्यादा संभावना व्यक्त की जा रही है कि पंचायतों के मौजूदा जन प्रतिनिधियों को कार्यकाल को चुनाव तक के लिए बढ़ा दिया जाये।

प्रशासक नियुक्ति की भी संभावना 

हालांकि, कुछ विभागीय लोग यह भी संभावना व्यक्त कर रहे हैं कि जन प्रतिनिधियों के कार्यकाल समाप्त होने पर इसे भंग करके उनके अधिकार संबंधित अधिकारियों को सौंप दिया जाये. लेकिन, इसकी संभावना कम ही जतायी जा रही है. अंतिम फैसला सरकार के स्तर पर ही लिया जायेगा और अध्यायदेश आने के बाद ही स्पष्ट होगा. कई सांसद, विधायक समेत अन्य जन प्रतिनिधि भी मौजूदा पंचायत स्तरीय जन प्रतिनिधियों के कार्यकाल को बढ़ाने की ही लगातार वकालत कर रहे हैं।

मंत्री ने कहा – सरकार मामले को लेकर गंभीर

मामले में मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि इस महत्वपूर्ण मसले पर सरकार इससे जुड़े सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श किया जा रहा है. जल्द ही उचित निर्णय ले लिया जायेगा. उन्होंने कहा कि कोरोना के हालात को देखते हुए फिलहाल चुनाव कराना संभव नहीं लग रहा है. ऐसे में जो भी सही होगा, उसको सरकार लागू करेगी।



Find Us on Facebook

Trending News