BIHAR NEWS: शहर में स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने का काम शुरू, 35 हजार घर चयनित, मोबाइल की तरह ही करना होगा रीचार्ज

BIHAR NEWS: शहर में स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने का काम शुरू, 35 हजार घर चयनित, मोबाइल की तरह ही करना होगा रीचार्ज

CHHAPRA: मंगलवार से छपरा नगर क्षेत्र में बिजली का प्रीपेड मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई। अब जो उपभोक्ता जितना बिजली उपभोग करेंगे उतना का उन्हें रिचार्ज कराना पड़ेगा। वहीं रिचार्ज समाप्त हो जाने पर बिजली कट जाएगी। प्रीपेड मीटर लगाने के लिए सर्वे का कार्य नगर के विभिन्न मोहल्लों में शुरू हो गया है। इसके बाद इन मोहल्लों के उपभोक्ताओं को प्रीपेड मीटर लगाया जाएगा।

बिजली विभाग के एसडीओ रजत कुमार और कनीय अभियंता राजकुमार ने बताया कि प्रीपेड मीटर लगने से बिजली बिल को लेकर उपभोक्ताओं की शिकायत दूर हो जाएगी। इससे उपभोक्ताओं को बिजली संबंधी समस्या से छुटकारा मिलेगा। उन्होंने बताया कि नगर में सर्वे करने के लिए टीम काम कर रही है। जो घर-घर जाकर उपभोक्ताओं से जानकारी इकठ्ठा कर रही है।अफसरों के अनुसार 35000 घरों में फिलहाल मीटर लगाने का लक्ष्य निर्धारित है जिसके लिए काम युद्ध स्तर पर शुरू हो गया है।

क्या है प्रीपेड मीटर?

प्रीपेड स्मार्ट मीटर साधारण मीटर से काफी अलग है। इसके लिए उपभोक्ताओं को बिजली बिल जमा करने के बजाय मोबाइल के तर्ज पर रिचार्ज कराना होगा। उपभोक्ता जितना का रिचार्ज कराएंगे वे उतनी ही बिजली का उपयोग कर पाऐंगे। राशि खत्म होते ही घर की बिजली गुल हो जाएगी। हालांकि इसके पहले संबंधित उपभोक्ता के मोबाइल पर अलर्ट मैसेज आएगा। मैसे के माध्यम से उन्हे मीटर से संबंधित सभी जानकारी दी जाएगी। कब मीटर रिचार्ज हुआ था? कितने बिजली का उपयोग हो चूका है? कितनी यूनिट बिजली शेष है? कब यह समाप्त हो जाएगी। विभाग द्वारा बार-बार अलर्ट किया जाएगा। यदि इसके बाद भी संबंधित उपभोक्ता द्वारा अपने मीटर को रिचार्ज नहीं किया गया तो उनकी बिजली गुल हो जाएगी।

प्रीपेड मीटर से बढ़ेगा राजस्व

प्रीपेड मीटर लगने के बाद उपभोक्ताओं को तीन दिनों का गे्रस पीरियड मिलेगा। जिस अवधि में उपभोक्ताओं को रिचार्ज करवाना होगा। एसडीओ रजत कुमार ने बताया कि जब प्रीपेड मीटर लगता है तो बकाया के साथ तीन दिनों तक रिचार्ज कराने का समय दिया जाता है। अभी नगर में हथुआ मार्केट से प्रीपेड मीटर लगाने का सर्वे शुरू कर दिया गया है। प्रीपेड मीटर लगने से बिजली से होने वाली राजस्व की वसूली में इजाफा होगी।

ऑनलाइन होगा रिचार्ज

-उपभोक्ता पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के बेवसाइट पर जाकर ऑन लाइन रीचार्ज करेंगे। मोबाइल एप से भी रीचार्ज की सुविधा। ज्यादा भागदौड़ करने की जरूरत नहीं होगी।

बिजली बिल समेत अन्य समस्याओं से मिलेगी निजात

इस सुविधा से एक ओर जहां बिजली की चोरी रुकेगी वहीं दूसरी ओर राजस्व में अप्रत्याशित वृद्धि होगी। क्योंकि बिजली विभाग जितना बिजली आपूर्ति करता है उसका 30 से 50 फ़ीसदी हैं ही राजस्व पाता है। ऐसे में यदि यह सुविधा बहाल होती है तो बिजली विभाग को 100 फ़ीसदी राजस्व आने की उम्मीद बढ़ जाएगी। वही आम उपभोक्ताओं की शिकायत रहती है कि बिजली बिल अक्सर समय पर नहीं आता, बिजली बिल में काफी गड़बड़ी है, मनमाने तौर पर रीडिंग की जाती है, मीटर रीडर नहीं आते हैं, अफसर बिजली बिल में सुधार नहीं कर रहे हैं, आदि अन्य समस्याओं से उपभोक्ताओं को निजात मिलेगा। हालांकि आम उपभोक्ता इस बात से भी डर रहे हैं कि कहीं मीटर इतना तेजी से नहीं भागने लगे कि पैसा जमा करते ही तुरंत खत्म हो जाए । चार्ज से अधिक खपत होने लगे।

फ्रांस का है यह स्मार्ट प्रीपेड मीटर

जो मीटर पूरे बिहार में लगाया जा रहा है यह फ्रांस ईडीएफ कंपनी लगा रही है। ईडीएफ यानी इलेक्ट्रिसाइट डे फ्रांस की कंपनी को पूरे जिले में सर्वे का काम मिला है सर्वे का काम करने के बाद मीटर लगाने का काम कंपनी करेगी।

क्या कहते हैं अधिकारी

छपरा पश्चिमी एसडीओ रजत कुमार का कहना है कि यह बात सही है किए स्मार्ट प्रीपेड बिजली मीटर लगाने के लिए सर्वे का काम शुरू हो गया है। जिस कंपनी ने टेंडर लिया है वह प्रतिदिन 1000 मीटर लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया है ।यह कार्य सबसे पहले कमर्शियल क्षेत्र हथुआ मार्केट से शुरू किया गया है। धीरे धीरे शहर के सभी क्षेत्रों में यह काम पूरा होगा।

Find Us on Facebook

Trending News