बिहार पंचायत चुनाव : ईवीएम के एक बटन दबाने से 6 प्रत्याशियों के भाग्य का होगा फैसला

बिहार पंचायत चुनाव : ईवीएम के एक बटन दबाने से 6 प्रत्याशियों के भाग्य का होगा फैसला

डेस्क... बिहार में पंचायत चुनाव की तैयारियां जारी हैं और ऐसी उम्मीद है कि यह मार्च अंत या अप्रैल के प्रथम सप्ताह से शुरू होकर मई तक संपन्न हो जाएगा। इस बार के चुनाव में जहां पहली बार मल्टी पोस्ट ईवीएम इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन का इस्‍तेमाल किया जाएगा। वहीं, कुछ ऐसे नियम कायदे बनाए जा रहे हैं, जिससे इस चुनाव की निष्पक्षता पर कोई सवाल न खड़ा हो। 

चुनाव आयोग के ताजा निर्देशों के अनुसार, बिहार में पंचायत आम चुनाव, 2021 को लेकर वर्तमान मुखिया के घर के 100 मीटर के अंदर किसी भी मतदान केंद्र (बूथ) का गठन नहीं किया जाएगा। किसी व्यक्ति के निजी भवन या परिसर में बूथ नहीं बनेगा और किसी थाना, अस्पताल, डिस्पेंसरी, मंदिरों या धार्मिक महत्व के स्थानों पर बूथों का गठन नहीं किया जाएगा। आयोग के सचिव योगेंद्र राम ने सभी जिलों के जिलाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी, पंचायत को बूथों के गठन की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया है।

वर्ष 2016 में हुए पंचायत आम चुनाव में राज्य में 1 लाख 19 हजार बूथ बनाए गए थे। आयोग के अनुसार पूर्व में गठित बूथों की समीक्षा कर जहां मतदान स्थल के परिवर्तन की जरूरत है उसके लिए जिलों द्वारा आयोग को पूर्ण कारणों की जानकारी देनी होगी और आयोग की सहमति मिलने पर ही नए स्थान पर बूथों का गठन किया जा सकेगा। सभी मतदान केंद्रों की सूची का अंतिम प्रकाशन 02 मार्च 2021 तक किया जाएगा। 

इस बीच सरकार ने राज्‍य निर्वाचन पदाधिकारी के प्रस्‍ताव पर अपनी सहमति दे दी है। पंचायत चुनाव के लिए  खास किस्‍म की मल्‍टी पोस्‍ट ईवीएम का इस्‍तेमाल किया जाएगा। इस ईवीएम के जरिए पंचायत चुनाव के सभी छह पदों के लिए एक साथ मत डाले जा सकेंगे। दरअसल, पंचायत चुनाव में मतदाता को एक साथ छह पदों के लिए अपने प्रतिनिधि का चुनाव करना होता है।  

बता दें कि पहले पंचायत चुनाव की प्रक्रिया बैलेट पेपर के सहारे ही पूरी की जाती थी और अलग-अलग मतपत्रों पर मुहर लगाने की व्यवस्था थी, लेकिन, इस बार हर बूथ पर मल्‍टी पोस्‍ट ईवीएम की व्‍यवस्‍था की जाएगी। ईवीएम से पंचायत चुनाव कराने के राज्य निर्वाचन आयोग के प्रस्ताव पर बिहार सरकार ने मुहर लगा दी है।  पंचायती राज विभाग ने अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा ने पत्र लिखकर आयोग को सूचित कर दिया है।


Find Us on Facebook

Trending News