रूपेश हत्याकांड के बाद बिहार पुलिस का टारगेटेड ऑपरेशन : STF ने कांट्रेक्ट किलरों की सूची बनाकर शुरू की धर-पकड़

रूपेश हत्याकांड के बाद बिहार पुलिस का टारगेटेड ऑपरेशन : STF ने कांट्रेक्ट किलरों की सूची बनाकर शुरू की धर-पकड़

डेस्क...  इंडिगो एयरलाइंस के मैनेजर रूपेश सिंह की हत्या के बाद बिहार पुलिस ने शूटरों के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है। एसटीएफ ने कई कॉन्ट्रैक्ट किलरों की सूची तैयार करने के बाद उनकी धर-पकड़ के लिए टारगेटेड ऑपरेशन शुरू किया है। पेशेवर अपराधियों की इस सूची में जल्द ही कई और नाम जुड़ेंगे। एसटीएफ ने किसी भी कीमत पर इन अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने की ठानी है। इसके लिए एक-दो नहीं बल्कि तेज-तर्रार पुलिस अफसरों और कमांडों की कई टीम को           लगाया गया है।

एसटीएफ ने कॉन्ट्रैक्ट किलरों की एक सूची बनाई है। फिलहाल इस सूची में 15 हत्यारों के नाम हैं। ये पटना और आसपास के रहनेवाले हैं। इस सूची में अपराध की दुनिया से जुड़े कई बड़े नाम हैं जो फिलहाल जेल से बाहर हैं। पिछले डेढ़-दो दशक से अपराध की दुनिया में सक्रिय इन पेशेवर अपराधियों के कुछ गुर्गों पर भी एसटीएफ की नजर है। इनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित करने के लिए एक्शन प्लान बनाकर काम किया जा रहा है। एसटीएफ ने पेशेवर अपराधियों खासकर कांट्रैक्ट किलरों की सूची तैयार करने के बाद जिला पुलिस से भी ऐसे अपराधियों की जानकारी मांगी है। जिला पुलिस यदि ऐसे अपराधियों की सूची भेजती है तो उसके खिलाफ भी अभियान में एसटीएफ के जवानों को लगाया जाएगा। माना जा रहा है कि जल्द ही इस सूची में कुछ और नाम जुड़ सकते हैं।

कॉन्ट्रैक्ट किलरों के खिलाफ अभियान के लिए एसटीएफ की कई टीम बनाई गई है। इसमें स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी), स्पेशल इन्वेस्टीगेशन ग्रुप (एसआईजी)  के अलावा चीता टीम को लगाया गया है। हर टीम में एसटीएफ में तैनात पुलिस अफसर और जूनियर और सीनियर कमांडो को लगाया गया है। एसटीएफ के एसपी के अलावा कई डीएसपी पूरे अभियान को संचालित कर रहे हैं। किलरों के संभावित ठिकानों का पता लगाने के लिए तकनीकी विश्लेषण के साथ मुखबिरों को भी सक्रिय कर दिया गया है। खुद एडीजी अभियान सुशील खोपड़े इस टारगेटेड ऑपरेशन की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। 


Find Us on Facebook

Trending News