पांच सालों में बिहार के 7.10 लाख फर्जी राशन कार्ड हुए रद्द, राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री ने दी जानकारी

पांच सालों में बिहार के 7.10 लाख फर्जी राशन कार्ड हुए रद्द, राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री ने दी जानकारी

पटना. पूर्व उपमुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी के एक प्रश्न के उत्तर में राज्यसभा में केंद्रीय ग्रामीण विकास तथा उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने बताया कि पूरे देश में 2017 से 20-21 तक के 5 वर्षों में डुप्लीकेट, अपात्र, घोस्ट, जाली कुल 2 करोड़ 41 लाख राशन कार्ड रद्द किये गये हैं। इसमें बिहार के 7 लाख 10 हजार राशन कार्ड रद्द किये गये हैं।


बिहार में 2018 में 2.18 लाख, 2019 में 3.92 लाख, 2020 में 99,404 कुल 7 लाख 10 हजार राशन कार्ड रद्द किये गये हैं। उत्तर प्रदेश में 1.42 करोड़, महाराष्ट्र में 21.03 लाख, मध्यप्रदेश में 19.63 लाख राशन कार्ड रद्द किये गये। सरकार ने यह भी बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत मिलने वाले 2 रुपये प्रति किलो चावल पर 33.7 रुपये तथा 1 प्रति किलो गेहूं पर 23.9 रुपये की राज्य सहायता दी जाती है।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत कुल 31,861 करोड़ बीमा कंपनियों द्वारा प्रीमियम संग्रह किया गया। इसके विरुद्ध किसानों को मात्र 17,931.60 करोड़ का क्षतिपूर्ति भुगतान किया गया। यानी 13929.40 करोड़ रुपया बीमा कंपनियों को लाभ हुआ।

मंत्री ने यह भी बताया कि योजना के प्रारंभ से खरीफ 21-22 तक किसानों को दावों के रूप में प्रति हेक्टेयर 4190/ रुपये का भुगतान किया गया। ज्ञातव्य है कि बिहार इस योजना में शामिल नहीं है। बिहार सहित अनेक राज्य किसानों की मदद के लिए अलग राज्य योजना चला रहे हैं।

Find Us on Facebook

Trending News