बिहार के पशुपालक हो जाएं सावधान, गायों में फैली अजीब बीमारी, तड़प तड़पकर हुई हजारों मवेशियों की मौत

बिहार के पशुपालक हो जाएं सावधान, गायों में फैली अजीब बीमारी, तड़प तड़पकर हुई हजारों मवेशियों की मौत

पटना. देश के कई राज्यों में मवेशियों और विशेषकर गायों में एक अजीब बीमारी फ़ैल गई है. इस बीमारी के कारण पिछले कुछ दिनों के दौरान हर दिन गायों की मौत हो रही है. यहां तक कि गुजरात और राजस्थान के कई जिलों में पिछले कुछ दिनों के दौरान 1000 से मवेशियों की मौत हो गई है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर कई जगहों से फोटो और वीडियो डाले जा रहे हैं जिसमें लावारिस हालत में कई गायों का शव पड़ा हुआ है. 

बताया जा रहा है कि इस अजीबोगरीब बीमारी को लम्पी वायरस कहा जाता है.  इस बीमारी में मवेशियों खास तौर पर गायों में सिक्के के आकार के निशान उभरते हैं और कुछ दिन में वे फटने लगते हैं और उनसे लगातार खून रिसता है. ऐसे में तड़प तड़प कर मवेशियों की जान चली जाती है. राजस्थान में इस बीमारी से पिछले 15 से 20 दिन के दौरान ही करीब 800 से ज्यादा मवेशी जान गवां चुके हैं.  इनमें से करीब 300 पाली और नागौर जिले से ही हैं.

इसी तरह गुजरात में भी बड़ी संख्या में गायों की मौत हुई है. सोशल मीडिया पर पोस्ट में एक जगह गायों का शवों और कंकालों का ढेर लगा है. बताया जा रहा है कि यह भुज का है. यहां पिछले कुछ दिनों के दौरान करीब 1000 गायों की मौत हो चुकी है. इससे न सिर्फ पशुपालक बल्कि आम लोग भी परेशान हैं. लोगों को मवेशियों की हो रही मौत से अब अपने लिए संक्रमण का खतरे का डर सता रहा है. 

इस बीच, नागौर जिले से सांसद हनुमान बेनीवाल ने भी केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री डॉ संजीव बालियान को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी है और मदद मांगी है. इसी जानकारी के बाद अब राजस्थान में एक विशेष दल पशुओं में फैल रही बीमारी को जांच पड़ताल के लिए आ रहा है. केंद्र की ओर से आ रहे दल में कई पशु रोग चिकित्सक और डेयरी बंदोबस्त से जुड़े लोग होंगे।. यह लोग राजस्थान के करीब 6 से भी ज्यादा जिलों का दौरा करेंगे और उसके बाद इसी हफ्ते के अंत में रिपोर्ट तैयार कर केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री डॉ संजीव बालियान को सौंपेंगे.

वहीं अब इस बीमारी के खतरे का डर देश के अन्य राज्यों में भी पशुपालकों को सताने लगा है. राजस्थान और गुजरात के बाद देश के कुछ अन्य राज्यों में भी पशुओं को लेकर चिंता बढ़ गई है. बिहार में भी इसके खतरे से इनकार नहीं किया जा सकता है. हालांकि अभी तक इस बीमारी से ग्रसित किसी पशु के बिहार से मरने की खबर नहीं है. 


Find Us on Facebook

Trending News