जीविका दीदीयों के हाथ मे बिहार की “रसोई”, सरकारी स्कूलों मे बनायेंगी खाना

जीविका दीदीयों के हाथ मे बिहार की “रसोई”, सरकारी स्कूलों मे बनायेंगी खाना

PATNA : बिहार के सरकारी विद्यालय की रसोई अब जीविका दीदीयों के हाथ मे होगी। बच्चों को अब जीविका दीदीयां मध्याहन भोजन बनाकर खिलायेंगी। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आर के महाजन आदेश के बाद विभाग पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर सूबे के दो प्रखंड़ों में इसकी शुरूआत करने जा रही है। 1 फरवरी 2019 से मुजफ्फरपुर और जहानाबाद के 1-1 प्रखंड़ों में जीविका की दीदीयां मध्याहन भोजन बनायेंगी। 31 जनवरी तक दोनो प्रखंड़ की जीविका दीदीयों को प्रशिक्षित कर लेना है। विभाग 1 फरवरी से हर हाल मे जीविका के माध्यम से मिड-डे-मिल शुरु करने की योजना पर काम कर रहा है।

बताया जा रहा है कि जीविका दीदीयों ने शिक्षा विभाग को मध्याहन भोजन योजना ग्राम संगठन की एक पहल का प्रस्ताव  दिया था। इसके बाद शिक्षा विभाग ने  दीदीयों के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। इसके बाद पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर बिहार के दो प्रखंड़ों मे शुरू करने की योजना बनायीगई है।

छत्तीसगढ मॉडल अपनाना चाहती है बिहार सरकार

मध्याहन भोजन संचालन देखने जीविका की टीम और शिक्षा विभाग के अधिकारी छत्तीसगढ़ जायेंगे।वहां पर स्वयं सहायता समूह द्वारा मध्याहन भोजन संचालन से सबंधित मॉडल के देखेंगे और उसे बिहार मे उतारने की दिशा मे काम करेंगे।

बताते चलें कि हाल के दिनों में बिहार की रसोईया मानदेय वृद्धि को लेकर लगातार आंदोलन चला रही है। इसी बीच शिक्षा विभाग ने पायलट प्रोजक्ट के तौर पर जीविका दीदीयों के हाथों में मध्याहन भोजन संचालन का जिम्मा दे रही है। साथ ही शिक्षा विभाग बिहार मे भी छत्तीसगढ मॉडल लागू करने को लेकर वहां की सरकार से लगातार संपर्क मे है।

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News