बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने किया बदलाव, इंटर परीक्षा में 50-50 अंको का भाषा प्रश्न पत्र खत्म

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने किया बदलाव, इंटर परीक्षा में 50-50 अंको का भाषा प्रश्न पत्र खत्म

PATNA: बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने सत्र 2020-22 से परीक्षा पैटर्न में बदलाव का फैसला किया है. ये बदलाव कक्षा 11 और 12 के छात्रो के लिए किये गए हैं. सीबीएसई की तर्ज पर अब बिहार बोर्ड में भाषा विषय की परीक्षा ली जाएगी. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने अब इंटर में 50-50 अंकों के भाषा प्रश्न पत्र को खत्म कर दिया गया. इसके साथ ही पास करने की व्यवस्था में भी बदलाव किया गया है. अब छठे विषय में पास लेकिन मेन विषय मे फेल होने पर छात्र विषय को बदल सकते है. बिहार बोर्ड ने यह फैसला सीबीएसई, राजस्थान बोर्ड , मध्य प्रदेश बोर्ड और छत्तीसगढ़ बोर्ड की विषय योजनाओं का अध्ययन कर नया पैटर्न लागू किया है. 

छात्र कैसे उठा पाएंगे फायदा 
छात्र अब एक साथ दो विषय को पढ़ पाएंगे. उनके पास अब विषय पढ़ने के अधिक ऑप्शन होंगे. इसके अलावा इस बदलाव से इंटर में पास का परसेंटेज भी बढ़ेगा. अगर किसी छात्र को विषय परिवर्तन करना है तो ऐसा उनके लिए संभव होगा. 

यहाँ हुए हैं बदलाव  

अभी हाल में सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड ने भी ऐसा ही बदलाव किया है. इसके अलावा बिहार बोर्ड इंटर साइंस के मैथ वाले छात्र अब विकल्प के रूप में बायो ले सकेंगे. जबकि पहले ऐसा नहीं था. इसके साथ ही छात्र अब इंटर में 100 अंक का हिंदी का पेपर और 100 अंक का दूसरी भाषा का पेपर ले सकेंगे. अगर किसी छात्र ने कुल 6 विषयों का चयन किया है. वह प्रथम पांच विषय में से किसी एक विषय में फेल हो जाता है तो वह अतिरिक्त विषय के अंक से चेंज कर दिया जाएगा. लेकिन शर्त यह होगी की चेंज करने के बाद पांच उत्तीर्ण विषयों में एक हिन्दी या अंग्रेजी जरूर होगा. वैसे स्टूडेंट्स जिन्होंने छठे अतिरिक्त विषय का चयन किया है, सभी 6 विषयों में पास हैं तो पास प्रतिशत की गणना नामांकन लेने वाले विश्वविद्यालय या नियोजक के द्वारा अपने निर्धारित क्वालिफिकेशन के अनुरूप किया जाएगा.



Find Us on Facebook

Trending News