बिना अनुमति डेंटिस्ट कर रहा था कोरोना मरीजों का इलाज, दल बल के साथ सिविल सर्जन ने की छापेमारी

बिना अनुमति डेंटिस्ट कर रहा था कोरोना मरीजों का इलाज, दल बल के साथ सिविल सर्जन ने की छापेमारी

MUNGER : बिहार में कोरोना का कहर लगातार जारी है. इसके संक्रमण की चपेट में अभीतक लाखों लोग आ चुके हैं. जबकि हजारों लोगों की अबतक जान जा चुकी है. इस बीच कोरोना के इलाज के नाम पर कुछ लोग अपनी जेब भरने में लगे हैं. इसी कड़ी में दवाईयों और ऑक्सीजन की कालाबाजारी की जा रही है. लेकिन मुंगेर जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है. जहाँ एक डेंटिस्ट बिना अनुमति के कोरोना पीड़ित मरीजों का इलाज कर रहा था. 

इलाज के नाम पर वह लोगों से मनमाना पैसे वसूल कर रहा था. वह भी तब जब इस नर्सिंग होम में कोविड के इलाज के लिए कोई सुविधा तक उपलब्ध नहीं था. इसकी शिकायत मिलने के बाद जांच करने खुद मुंगेर के सिविल सर्जन हरेंद्र कुमार आलोक, तारापुर के SDO रंजीत कुमार, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ललन कुमार, सीओ और स्थानीय थानाध्यक्ष के साथ वहां पहुंचे. उन्होंने साफ कहा कि इस हॉस्पिटल को कोविड मरीजों के इलाज की अनुमति नहीं है. उन्होंने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि हॉस्पिटल संचालक को नोटिस भेजें और 24 घंटे में जवाब न मिलने पर इसे सील कर दें. 

मिली जानकारी के अनुसार नर्सिंग होम की ओर से हॉस्पिटल में रोगियों से 1 घंटे के ऑक्सीजन की कीमत 10 हजार रुपए वसूली जा रही थी. साथ ही एम्बुलेंस द्वारा असरगंज से भागलपुर पहुंचाने के लिए न्यूनतम वसूली 10 हजार रुपए की जाती थी. अस्पताल में इलाज करा चुके एक मरीज के परिजन ने बताया की अपने भाई के तबियत खराब होने के बाद लाइफ केयर हॉस्पिटल इलाज कराने पहुंचे. जिन्हें ऑक्सीजन के सपोर्ट पर रखा गया था. उन्होंने कहा की अस्पताल में जब तक मरीज के पास कोई अटेंडेंट होता था तो ऑक्सीजन लगा रहता था, परिजनों के हटते ही वार्ड बॉय ऑक्सीजन सपोर्ट हटा लेता था. कहने पर वार्ड बॉय फटकार देते थे. बाद में मरीज की मौत हो गयी. 

Find Us on Facebook

Trending News