पटना में बिस्मिल्लाह खां अंतर्राष्ट्रीय सम्मान समारोह का हुआ आयोजन, पूर्व सांसद आर.के.सिन्हा को लाइफ टाइम एचिवमेंट अवार्ड 

पटना में बिस्मिल्लाह खां अंतर्राष्ट्रीय सम्मान समारोह का हुआ आयोजन, पूर्व सांसद आर.के.सिन्हा को लाइफ टाइम एचिवमेंट अवार्ड 

PATNA :  शहनाई नवाज भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां साहब की याद में ‘शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट’ के तत्वाधान में मंगलवार को बिस्मिल्लाह खां अंतर्राष्ट्रीय सम्मान समारोह-2022 का आयोजन पटना के तारामंडल सभागार में संपन्न हुआ। इस मौके पर पत्रकार, चिंतक, उद्योगपति,समाजसेवी, दानवीर,गौ वंश पर आधारित प्राकृतिक कृषि विशेषज्ञ, पूर्व राज्यसभा सांसद आर.के.सिन्हा को लाइफ टाइम एचिवमेंट अवार्ड से नवाजा गया। वहीं विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया जिसमें बी.सी.राय सम्मान से सम्मानित डॉ.एन.पी.नारायण, रुबन अस्पताल के निदेशक डॉ. सत्यजीत कुमार सिंह, अवसर-50 के निदेशक आर.के.श्रीवास्तव, मनोचिकित्सक डॉ.बिंदा सिंह, डॉ.फहरिन अहमद, डॉ.निहारिका सिन्हा, डॉ. अभिषेक कुमार, डॉ. ए.के.राय, डॉ.जितेंद्र सिंह, समाजसेवी राहुल कुमार, धीरेंद्र सिंह टुड्डू, समाजसेवी शिव कुमार मांझी, केबीसी फेम तथा गौरैया संरक्षण के लिए मोतिहारी में काम कर रहे सुशील कुमार, गोपाल कुमार, गायक परमानंद,पत्रकार आनंद कौशल, पत्रकार एवं अमरेश एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी के सचिव रमेश कुमार पाण्डेय, अभिजित बासु, बिशप स्कॉट के निदेशक अच्युत सिंह, रुपम त्रिविक्रम, अमित शाखेर, विश्वमोहन कुमार, गया के युवा उद्यमी कुमार गौरव उर्फ गौरव सिन्हा, रविंद्र सिन्हा, प्लेबैक सिंगर प्रिया मल्लिक, डॉ. नम्रता आनंद, पंडित अभिषेक मिश्रा, ओम प्रकाश, कत्थक नर्तकी पंखुड़ी श्रीवास्तव, चुमकी दास, सोहन कुमार, चार्ली चैप्लीन-2 राजन कुमार,रश्मि शर्मा, समाजसेवी उदय कुमार यादव को आयोजक मंडल द्वारा सम्मानित किया गया। हरियाली मिशन, नूरसराय संस्था की ओर से पर्यावरण की सुरक्षा के लिए 101 पौधा अतिथियों को भेंट किया गया। समारोह में शामिल अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। वहीं इस अवसर पर सेंट कैरेंस प्राइमरी स्कूल, वर्ग-3 की छात्रा काव्या मनोहर, आराध्या वर्मा तथा खनिका रौशन ने अतिथियों के स्वागत गान “इस आंगन में आप पधारे.....” प्रस्तुत कर कार्यक्रम में शामिल लोगों को मंत्र मुग्ध कर दिया, जबकि शैलेंद्र राजू ने माउथ ऑर्गन पर राष्ट्रगान की धुन बजाकर सबको आकर्षित कर लिया। 

लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित आर.के.सिन्हा ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि बिस्मिल्लाह खां बहतु सादगी से रहने वाले थे। यह कार्यक्रम काफी सराहनीय है। विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाले नवोदित पीढ़ी को सम्मानित किया इसके लिए हम से जितना संभव है हमारा सहयोग रहेगा। समारोह को संबोधित करते हुए प्रो.नवल किशोर यादव ने इस कार्यक्रम के लिए आयोजक मंडल को बधाई देते हुए कहा कि शहनाई सभी वादनों की गंगा है। उस्ताद ने अपने जीवन में जो किया आज उसकी मिठास पूरी दुनिया में उन्हें स्थापित कर दिया। मुरली मनोहर श्रीवास्तव उस्ताद की स्मृति को लगातार सहेजने में लगे हुए हैं। जबकि विधान पार्षद गुलाम गौस ने इस मौके पर कहा कि बिस्मिल्लाह खां साहब का व्यक्ति ही उनका कृतित्व बन गया। उन्होंने अपने जीवनकाल में जो किया आज उनकी स्मृति अमरत्व की श्रेणी में शुमार कर दिया। इस आयोजन के लिए आयोजक मंडल बधाई के पात्र हैं। इसके अलावे जी बिहार-झारखंड के संपादक स्वयं प्रकाश ने कहा कि यह आयोजन अपने आप में अद्भुत है। प्रो.सुहेली मेहता ने अपने संबोधन में उस्ताद को भारतीय सभ्यता-संस्कृति का परिचायक बताया। साथ ही कहा कि इस तरह का आयोजन हमेशा होते रहना चाहिए।

शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां ट्रस्ट के अध्यक्ष सह लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव ने मंच संचालन करते हुए उस्ताद के हर पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि गंगा-जमनी तहजीब के प्रतीक उस्ताद की याद में कार्यक्रम को आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य है समाज के प्रति समर्पित साकारात्म कार्यों को प्रोत्साहन देना। समाज में उत्कृष्ट कार्य कर अपने राज्य, देश व दुनिया में नाम रौशन करने वाली प्रतिभाओं को सम्मानित कर उनकी प्रतिभा को प्रतिष्ठित करना है। आयोजक मंडल बसंत सिन्हा, सिद्धार्थ मिश्रा, रणजीत कुमार ने संबोधित किया।

इस मौके पर मुरली मनोहर श्रीवास्तव द्वारा लिखित गजल की पुस्तक “जज्बात” का लोकार्पण किया गया। इस पुस्तक का लोकार्पण पूर्व राज्यसभा सांसद आर.के.सिन्हा ने किया। ग्रामीण परिवेश में पले बढ़े मुरली मनोहर श्रीवास्तव अपनी लेखनी के बूते देश-दुनिया में अपना परचम लहरा रहे हैं। लोकार्पण करने के दौरान श्री सिन्हा ने कहा कि मुरली मनोहर श्रीवास्तव एक उम्दा किस्म के लेखक हैं। मुरली की लेखनी आम जनता से सरोकार रखती हैं। इस गजल की पुस्तक को वर्तमान परिवेश को केंद्र में रखकर रचना की गई है, जो समाज में हमेशा प्रासंगिक बना रहेगा। इस गजल की पुस्तक के प्रकाशन के साथ ही कॉमर्शियल साइट्स पर आउट ऑफ मार्केट हो चुकी है।    

बता दें की वर्ष 2009 में मुरली मनोहर श्रीवास्तव की “शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खां” पुस्तक का बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोकार्पण किया था। यह पुस्तक पिछले 10 वर्षों से बेस्ट बुक सेलर पुस्तक में शामिल है। लोकार्पण के दौरान विधान पार्षद गुलाम गौस, विधान पार्षद प्रो.नवल किशोर यादव, पूर्व विधान पार्षद डॉ. रणबीर नंदन, प्रो.सुहेली मेहता, वरिष्ठ पत्रकार स्वयं प्रकाश, बसंत सिन्हा, सिद्धार्थ मिश्रा, मृत्युंजय प्रताप सिंह तथा रणजीत कुमार आदि मौजूद थे।

Find Us on Facebook

Trending News