बेचैनी में BJP! भाजपा नेता बोले- तेजस्वी का 'भूमिहारों' पर डोरा डालने की रणनीति नहीं होगी कामयाब

बेचैनी में BJP! भाजपा नेता बोले- तेजस्वी का 'भूमिहारों' पर डोरा डालने की रणनीति नहीं होगी कामयाब

PATNA: तेजस्वी यादव ने भाजपा के कोटर वोटरों को तोड़ने की पूरी तैयारी कर ली है। तेजस्वी ने भूमिहार समाज को साधने के लिए हाथ बढ़ा दिया है । उन्होंने साफ कहा है कि अगर आप हमारे साथ आ गये तो फिर हमें हराना वाला कोई नहीं होगा। नेता प्रतिपक्ष के इस मिशन से भाजपा बेचैन है। भाजपा ने कहा है कि परशुराम जयंती के बहाने तेजस्वी का भूमिहार समाज पर डेरा डालने की मंशा सफल नहीं होगी। 

तेजस्वी की रणनीति नहीं होगी कामयाब-बीजेपी

भाजपा स्वच्छता अभियान के प्रदेश संयोजक व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य पीयूष शर्मा ने कहा है कि समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में राजद परिवार के मुखिया तेजस्वी यादव का शरीक होना और बीती बातों व कार्यों पर पश्चाताप करना समाज के लिए धोखा है । राजद का संस्कार बिहार में रह रहे पढ़ें लिखे व संभ्रांत वर्ग के लोगों के लिए कभी अच्छा नहीं हो सकता । उनका काल खंड  हत्या ,चोरी , डकैती ,अपहरण , नरसंहार का रहा है । समस्त बिहार वासी उनके काल खंड से पूर्व परिचित हैं । तेजस्वी यादव सत्ता पर काबिज होने के लिए षड्यंत्र के तहत भू समाज के लोगों पर डेरा डालने की झूठी कहानी रच रहे। गरीबों के मसीहा का नारा देकर उनके पिता लालू प्रसाद यादव ने पन्द्रह वर्षों तक गरीबों का शोषण किया है।

पीयूष शर्मा ने कहा कि विगत दिनों जब भू समाज के नेताओं द्वारा  कमजोर व गरीब व्यक्तियों के लिए 10%  आरक्षण की मांग देश में की जा रही थी तो तेजस्वी यादव इसका खिलाफत किया था। आज सत्ता की प्राप्ति के लिए भू समाज के हित की बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं । जब बिहार में सबसे बड़े नरसंहार सेनारी में 34 लोगों की वीभत्स तरीके से गला रेतकर हत्या की गई थी और न्यायालय से दोषियों को बरी किया गया तो उनकी प्रतिक्रिया इस  समाज के प्रति क्या थी ? न्यायालय के फैसले के तुरंत बाद हमारे प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल द्वारा उन 34  बेकसूरों की हत्या के दोषी कौन ? का प्रश्न पूछने का काम किया गया था । भाजपा नेता ने पूछा कि आज भू समाज से प्रेम की बात करने वाले तेजस्वी यादव  2020 विधानसभा चुनाव में भू समाज के कितने लोगों को टिकट देने का काम किया था? भूरा बाल साफ़ करो का नारा किस परिवार के द्वारा दिया गया था? पिता के संस्कार में हीं पुत्र के संस्कार निहीत होते हैं । जब पिता लालू प्रसाद द्वारा इस तरह के कार्य किये गये थे तो पुत्र उनसे अधिक अहंकारी हैं । वह कभी समाज की रक्षा नहीं कर सकते  है । वे समाज को धोखा देकर अपनी स्वार्थपूर्ति की चिंता में डोरे डालने का काम कर रहे  है । उन्होंने कहा कि इससे समाज को बचने की आवश्यकता है । समाज का हित भाजपा में हीं संभव है.भारतीय जनता पार्टी में उसी समाज के नित्यानंद राय भारत सरकार में गृह राज्यमंत्री के पद पर आसीन हैं । जिसने  अपनी राजनीति की शुरुआत विद्यार्थी परिषद व जनसंघ से की है । जिनके संस्कार में भू  समाज के प्रति प्रेम और भाईचारे की भावना है. वे आज के समय में 13 करोड़ बिहार वासियों की आशा बने हुए हैं । इसलिए हमारे लोगों को झूठी कल्पनाओं में पड़ने की आवश्यकता नहीं है । 

Find Us on Facebook

Trending News