प्रशिक्षण शिविर के नाम पर सीएम नीतीश के राजगीर में जुटे भाजपा के दिग्गज, क्या हैं इसके मायने

प्रशिक्षण शिविर के नाम पर सीएम नीतीश के राजगीर में जुटे भाजपा के दिग्गज, क्या हैं इसके मायने

NALANDA. बिहार के सीएम नीतीश कुमार की फेवरेट जगह राजगीर में शनिवार से  भारतीय जनता पार्टी के दो दिवसीय प्रशिक्षण का शिविर का शुभारंभ हुआ। शिविर का उद्घाटन भाजपा बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव और प्रदेश संजय जैसवाल ने संयुक्त रूप से किया। इस शिविर में प्रदेश के सभी जिलाध्यक्ष के अलावा पदाधिकारी भी शामिल हुए हैं । 2 दिनों तक इन सभी को प्रशिक्षण दिया जाएगा और केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में भी जानकारी दी जाएगी। इसके बाद सभी पदाधिकारी अपने अपने इलाके में जाकर भाजपा के कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करेंगे।

 इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि हमारी पार्टी भाजपा हर वर्ष अपने कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को प्रशिक्षण देने का काम करती है ताकि यह लोग पार्टी की रणनीति के बारे में पूरी तरह से जानकारी रख सके और संगठन को मजबूत कर सके।  उन्होनें मौजूदा केंद्र सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि 2014 में एक ऐसा पीएम मिला जो देश के गरीबों के बारे में सोचता था। 

शिविर में कोरोना गाइडलाइन दरकिनार

इस शिविर के दौरान कोरोना को लेकर सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन की पूरी तरह से धज्जियां उड़ायी गई।  शिविर में मौजूद बड़े नेता से लेकर छोटे नेता तक मास्क लगाना मुनासिब नहीं समझा और ना ही यहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया । वैसे तो सरकार द्वारा आम लोगों के कार्यक्रम पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिया है मगर सरकार में शामिल लोग ही कोरोना वायरस के लिए जारी किए गए गाइड लाइन की धज्जी उड़ा रहे हैं।

राजगीर में कार्यक्रम का मतलब

बिहार में हर व्यक्ति जानता है कि सीएम नीतीश कुमार के लिए राजगीर का क्या महत्व है। अब उसी राह पर भाजपा भी चल पड़ी है, जिसको लेकर सवाल उठने लाजिमी हैं क्या भाजपा अब भी नीतीश को मनाने की कोशिश कर रही है या राजगीर के बहाने नीतीश को पीछे छोड़ने की तैयारी चल रही है।

Find Us on Facebook

Trending News