बीजेपी के 4 नेता हुए निष्कासित, अन्य नेताओं के भी नाम शामिल इनपर भी गाज गिरना तय

बीजेपी के 4 नेता हुए निष्कासित, अन्य नेताओं के भी नाम शामिल इनपर भी गाज गिरना तय

समस्तीपुर बीहार विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों में उथल पुथल की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में एक खबर बीजेपी खेमे से आई है .बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के निर्देश पर समस्तीपुर बीजेपी के जिलाध्यक्ष उपेंद्र कुमार कुशवाहा द्वारा इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया गया. बताया गया है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में अहम भूमिका रखने वाले कर्नल राजीव रंजन का इस लिस्ट में पहले नंबर पर नाम है.बीजेपी जिलाध्यक्ष उपेन्द्र कुमार ने की कार्रवाईपार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोपकार्रवाई करते हुए चार नेताओं को छह साल के लिए किया निष्कासित

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान बीजेपी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए चार नेताओं को छह साल के लिए निष्कासित किया है. इन सभी नेताओं पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है. माना जा रहा है कि बीजेपी की इस कार्रवाई में अभी कई और भी नेताओं के नाम शामिल हैं, जिन पर जल्द ही गाज गिर सकती है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के निर्देश पर समस्तीपुर बीजेपी के जिलाध्यक्ष उपेंद्र कुमार कुशवाहा द्वारा इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया गया. बताया गया है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में अहम भूमिका रखने वाले कर्नल राजीव रंजन का इस लिस्ट में पहले नंबर पर नाम है. राजीव रंजन समस्तीपुर से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन ये सीट जेडीयू के खाते में जाने के बाद वे निर्दलीय चुनाव मैदान में उतर चुके हैं.

वहीं, वारिसनगर के रहने वाले सुंदेरेश्वर राम को भी पार्टी से निष्कासित किया गया है. सुंदेरेश्वर राम एलजेपी के टिकट पर कल्याणपुर विधानसभा से चुनाव मैदान में उतरे हैं. इनके अलावा उजियारपुर के अजय कुमार झा और विश्वनाथ चौधरी उर्फ तूफान को भी पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने और गठबंधन धर्म का पालन नहीं करने के आरोप में निष्कासित किया गया है. 

बीजेपी के प्रवक्ता मुकेश सिंह ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए इन चारों नेताओं के निष्कासन की जानकारी दी है. बीजेपी जिलाध्यक्ष उपेन्द्र कुमार कुशवाहा ने बताया कि इन नेताओं द्वारा पार्टी की छवि को धूमिल किया जा रहा था. इस कार्रवाई के बाद अगले छह वर्ष तक ये नेता पार्टी से दूर रहेंगे. बता दें कि एनडीए की सीट शेयरिंग के बाद खफा हुए कई नेता दूसरे दलों के प्रत्याशियों के चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं, जिसके बाद बीजेपी द्वारा ये कार्रवाई की गई है. माना जा रहा है कि इस कार्रवाई में अभी कई अन्य नेताओं के नाम भी शामिल हैं, जिन पर गाज गिरना तय है.

Find Us on Facebook

Trending News