नारी अपमान में माहिर बिहार BJP नेता ने नारी सम्मान की बिछाई बिसात, दल के नेता कह उठे- समरथ को नहीं दोष गोसाईं!

नारी अपमान में माहिर बिहार BJP नेता ने नारी सम्मान की बिछाई बिसात, दल के नेता कह उठे- समरथ को नहीं दोष गोसाईं!

PATNA:  राजनीति भी गजब की चीज है,पर्दे के पीछे में अपमान और पर्दे के सामने में सम्मान,यही है भाजपा नेता की पहचान. बीजेपी का गालीबाज नेता जो अपनी ही पार्टी की महिला नेताओं के बारे में हर वो अमर्यादित-असंसदीय व गंदे शब्दों का प्रयोग किया जिसे सुनकर शर्म भी शर्मा जाए। आज की तारीख में उसका दुस्साहस देखिए कि सबसे मर्यादित और सबसे बड़ी पार्टी का दावा करने वाले दल के सबसे बड़े मंच से महिलाओं के सम्मान का ढ़ोंग रच रहा है। उसके ढ़ोंग में संगठन का सबसे बड़ा नेता शिरकत कर रहा है।  अब सवाल यह उठता है कि नारी सम्मान और नारी उत्थान के लिए संवेदनशील होने का दावा करने वाले इस दल के बड़े नेता सबकुछ जानने के बाद भी नारी अपमान करने वालों को शह दे रहे हैं. इधर, पीड़ित नेत्री न्याय के लिए हर दरवाजे खटखटाई.आज जब नारी को अपमानित करने वाले नेता का नारी सम्मान का लोगों ने शगुफा देखा तो  स्वाभाविक तौर पर कई नेता कह उठे-समरथ को नहीं दोष गोसाईं........।

गालीबाज शाही ने ही किया था नारी सम्मान कार्यक्रम का आयोजन

बिहार भाजपा प्रदेश कार्यालय  में आशुतोष कुमार शाही की तरफ से नारी सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया था. इसी नेता पर पार्टी की नेत्री को गंदी-गंदी गाली देने और अपशब्दों का प्रयोग करने का आरोप है। पीड़िता महिला ने इस मामले में भाजपा नेता आशुतोष कुमार शाही पर मुकदमा भी दर्ज कराई थी।इतना ही नहीं सीतामढ़ी की पूरी कमिटी ने कार्रवाई के लिए प्रदेश नेतृत्व को रिपोर्ट किया था। लेकिन कुछ नहीं हुआ। वही पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक आशुतोष कुमार शाही की अध्यक्षता में आज भाजपा प्रदेश कार्यालय में 1971 विजय दिवस के शुभ अवसर पर वीर नारियों का सम्मान समारोह का आयोजन किया गया  समारोह में मुख्य रूप से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल समेत पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। भाजपा की पीड़ित नेत्री नेतृत्व से शिकायत की गुहार लगाकर थक गई लेकिन आरोपी नेता पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। कार्रवाई की बात तो छोड़िए गालीबाज नेताआशुतोष शाही नेतृत्व से और नजदीक हो गया। बेचारी महिला आखिर क्या करती.......


पीडिता बेबस हो गई और आरोपी मजबूत 

भाजपा नेतृत्व ने आखिरकार महिला को न्याय नहीं ही दिया।उसने हर दरवाजे पर न्याय की गुहार लगाई,लेकिन कहां कोई सुनने वाला था। लिहाजा अब चुप हो गई है। पीड़िता बेबस हो गई और आरोपी आशुतोष शाही अपने आप को मजबूत साबित करने में जुटा रहा। न्यूज4नेशन की खबर के बाद तब बिहार बीजेपी में खलबली मच गई थी।दिखावे के लिए पूरे मामले पर बीजेपी नेतृत्व ने संज्ञान भी लिया था और बताया गया था कि पूरे मामले को अनुशासन समिति के पास भेजा गया है। लेकिन रिजल्ट ढाक के तीन पात ही रहा...... जानकारी के अनुसार बीजेपी नेतृत्व ने पीड़िता के न्याय देने वाली फाइल को डंप कर दिया। इधर आशुतोष शाही प्रदेश अध्यक्ष के साथ फोटो खींचाकर और अपने कार्यक्रम में बुलाकर नजदीक साबित करने में जुटा है। 

नेतृत्व ने नहीं की कोई कार्रवाई

सीतामढ़ी के वर्तमान जिलाध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह जिन्होंने पूरी कमिटी से पास करा कर बीजेपी नेता आशुतोष कुमार शाही पर कार्रवाई को लेकर प्रदेश नेतृत्व को पत्र लिखा था वे भी नेतृत्व के इस निर्णय से खासे व्यथित हैं।उन्होंने न्यूज4नेशन से बातचीत में कहा था कि अब तक आरोपी नेता पर नेतृत्व ने कोई कार्रवाई नहीं की जबकि ऐसा होना नही चाहिए था. बीजेपी जिला अध्यक्ष ने बड़े ही आहत मन से कहा था कि ऐसा होना नहीं चाहिए था लेकिन प्रदेश स्तर पर कुछ न कुछ बात है जिस वजह से कोई कार्रवाई नहीं हो रही.उल्टे फिर से सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक के पद दे दिया गया।


जानिए पूरा मामला

मामला सीतामढ़ी का है जहां, भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री जो महामंत्री के पद पर हैं उनके बारे में आशुतोष कुमार शाही ने अपशब्द और आपत्तिजनक शब्द का प्रयोग किया गया था। महिला नेत्री के बारे में पार्टी के ही दो नेताओं का ऑडियो वायरल हुआ था.इसके बाद मामले में  नेत्री की तरफ से भाजपा नेता आशुतोष शाही के खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया था। वायरल ऑडियो में  एक तरफ भाजपा नेता जो सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक के पद पर कार्यरत आशुतोष कुमार शाही और सुनील नायक के बीच बातचीत थी। बातचीत में सीतामढ़ी की एक महिला नेता को लेकर अपशब्दों और आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया गया था।  सैनिक प्रकोष्ठ के नेता आशुतोष कुमार शाही ने फोन पर बातचीत करते हुए कह रहे थे कि भाजपा जिला अध्यक्ष सुबोध कुमार सिंह व पार्टी की एक नेत्री के बीच अवैध संबंध है . महिला नेत्री का वही धंधा है . इसके साथ ही गाली-गलौच एवं कई अन्य सनसनीखेज आरोप लगाए गए थे.

Find Us on Facebook

Trending News