BJP में मंत्री पद को लेकर माथा-पच्ची, क्या युवा,उर्जावान व पढ़े-लिखे नेताओं को मिलेगा मौका या खास गुट के नेताओं की लगेगी लॉटरी

BJP में मंत्री पद को लेकर माथा-पच्ची, क्या युवा,उर्जावान व पढ़े-लिखे नेताओं को मिलेगा मौका या खास गुट के नेताओं की लगेगी लॉटरी

PATNA: बिहार में नई सरकार को लेकर हलचल तेज है। 15 नवंबर को एनडीए की बैठक होगी जिसमें नेता का चयन होगा।  16 नवंबर को नई सरकार के मुखिया के तौर पर नीतीश कुमार सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। इन सब के बीच मंत्री पद को लेकर लगातार मंथन जारी है। इस बार के विधानसभा चुनाव में एनडीए के भीतर भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है। अब तक जेडीयू बड़ी पार्टी हुआ करती थी लेकिन इस बार जेडीयू सिर्फ 43 सीटों पर सिमट गई है,जबकि बीजेपी के खाते में 74 सीटें आई हैं।ऐसे में पूरी गुंजाइश है कि बीजेपी की भागीदारी बढ़े।

अगर खास वर्ग-गुट के नेताओं की लॉटरी लगी तो होगी परेशानी 

बीजेपी को मंत्रिमंडल में पहले की अपेक्षा अधिक भागीदारी होगी,इसकी पूरी गुंजाइश है। बीजेपी के अंदर कई वरिष्ठ नेता हैं जो मंत्री पद की दौड़ में हैं।लेकिन इस बार बीजेपी को फूंक-फूंक कर कदम रखना होगा,अगर मंत्रिमंडल में खास वर्ग की उपेक्षा और खास गुट के नेताओं की लॉटरी लगी तो  इसकी नाराजगी बीजेपी को उठानी पड़ सकती है।हालांकि बीजेपी की तरफ से सरकार बनाने  और मंत्रिमंडल के चेहरों पर मंथन जारी है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता लगतार दिल्ली से लेकर पटना तक सरकार के फार्मूले पर मंथन में जुटे हैं.


क्या युवा,उर्जावान और पढ़े-लिखे नेताओं को मंत्री पद मिलेगा?

 इतना ही नहीं बीजेपी को युवा चेहरे पर भी पार्टी को फोकस करना पड़ेगा। क्यों कि विपक्ष का जो चेहरा है वो युवा है,इस बार के चुनाव में जिस तरह से तेजस्वी यादव ने युवा कार्ड खेला उसे सबसे देखा,युवा कार्ड सफल होते भी दिख रहा था,तेजस्वी को लेकर युवाओं में काफी लोकप्रियता भी दिखी।जानकारों का मानना है कि ऐसे में बीजेपी को घिसे-पिटे चेहरों की बजाए युवा,उर्जावान और पढ़े-लिखे नेताओं को मंत्री पद देकर विरोधियों के रथ को रोकने की कोशिश होनी चाहिए.वरना भाजपा की नए लोगों में लोकप्रियता कम हो सकती है। साथ ही पुराने चेहरों की बजाए नए और युवा चेहरे को आगे करना चाहिए ताकि इसका लाभ पार्टी को मिल सके।




Find Us on Facebook

Trending News