बीजेपी एमएलसी के बगावत पर बिहार बीजेपी ने साधी चुप्पी, कोई भी नेता बोलने को तैयार नहीं

बीजेपी एमएलसी के बगावत पर बिहार बीजेपी ने साधी चुप्पी, कोई भी नेता बोलने को तैयार नहीं

PATNA: बीजेपी एमएलसी सच्चिदानंद राय के बगावती सुर के बाद बिहार बीजेपी के नेता बचाव की मुद्रा में आ गए हैं. पार्टी का कोई भी नेता इस पर मुंह खोलने को तैयार नहीं है. सच्चिदानंद राय से जुड़े सवाल पर हर नेता कन्नी कटाते दिख रहे है. आज पार्टी के प्रदेश कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस आयोजित थी. पीसी में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, बिहार प्रभारी भूपेन्द्र यादव, प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय मौजूद थे. जब बीजेपी नेताओं से सवाल पूछा गया तो सबने चुप्पी साध ली. कोई भी नेता कुछ बोलने को तौयार नहीं हुआ.

यहां बता दें कि बिहार के लोकसभा चुनाव में ब्रह्मजन को पर्याप्त टिकट नहीं मिलने के बाद बीजेपी विधानपार्षद सच्चिदानंद राय ने बगावत कर दिया है. साथ ही सच्चिदानंद राय ने पार्टी नेतृत्व को चुनौती देते हुए महाराजगंज संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा भी कर दी है. इतना ही नहीं उन्होंने कई अन्य सीटों पर भी उम्मीदवार उतारने का एलान कर दिया है.

महाराजगंज से बीजेपी प्रत्याशी के खिलाफ ठोकेंगे ताल

बीजेपी विधानपार्षद ने भाजपा के जनार्दन सिंह सिग्रीवाल पर गंभीर आरोप लगाए हैं. विधानपार्षद ने कहा है कि फिर से एक भ्रष्टाचारी को मैदान में उतारा गया है. सिग्रीवाल पर सरकारी राशि की हेरा-फेरी के आरोप जांच में निगरानी विभाग ने प्रमाणित कर चार्जशीट दाखिल कर दिया हैं. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि  सिग्रीवाल के खिलाफ दो महाविद्यालयों में बतौर सचिव रहते हुए राशि की हेरा-फेरी की गई है यह महज आरोप नहीं बल्कि देश और राज्य के विश्वसनीय संस्था निगरानी द्वारा उन्हें आरोपित किया गया है.

सच्चिदानंद राय ने कहा कि भाजपा ने एक खास वर्ग को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में टिकट न देकर उपेक्षित किया है. ऐसे में अब चुप बैठना संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि वह स्वयं महाराजगंज से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ेंगे और पांचवें, छठे और सातवें चरण की कई सीटों पर मजबूत उम्मीदवार भी खड़े करेंगे. विधान पार्षद ने कहा कि उनकी वैसी सीटों पर नजर है, जहां से इस समाज के प्रत्याशी जीतते आए हैं लेकिन इस बार राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने उन्हें टिकट नहीं दिया है. उन्होंने कहा कि जहानाबाद, पाटलिपुत्र और मुजफ्फरपुर समेत लोकसभा की कई अन्य सीटें हैं, जहां इस समाज के मतदाताओं की संख्या काफी है. उन्होंने कहा कि यदि इस समाज का महागठबंधन से भी प्रत्याशी होगा तो उसे वहां से जिताने में मदद की जाएगी. राय ने आरोप लगाया कि इस समाज ने पार्टी उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि यदि पार्टी अनुशासनात्मक कार्रवाई करती है तो उन्हें इसकी कोई परवाह नहीं है. अपने समाज के लोगो के सम्मान के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हूं. राय ने कहा कि जिसने पार्टी को सींचने का काम किया आज उसे ही टिकट से वंचित कर दिया गया. 



Find Us on Facebook

Trending News