लालू परिवार पर बीजेपी एमएलसी ने साधा निशाना, कहा- राजद पार्टी नहीं प्राइवेट लिमिटेड है, लालू के बेटा-बेटी अपनी-अपनी महत्वाकंक्षा के लिए लड़ रहे हैं लड़ाई

लालू परिवार पर बीजेपी एमएलसी ने साधा निशाना, कहा- राजद पार्टी नहीं प्राइवेट लिमिटेड है, लालू के बेटा-बेटी अपनी-अपनी महत्वाकंक्षा के लिए लड़ रहे हैं लड़ाई

पटना. राजद में घमासान के बीच बीजेपी के एमएलसी नवल किशोर यादव ने राजद पार्टी और लालू परिवार पर निशाना साधा है. इस दौरान लालू परिवार पर हमला बोलेत हुए कहा कि राजद कोई पोर्टी नहीं है, बल्कि यह प्राइवेट लीमिटेड है. साथ ही उन्होंने कहा कि लालू परिवार में सभी महत्वाकमांक्षी है. साभी अपनी-अपनी महत्वाकांक्षा के लिए लड़ाई लड़ते हैं. उन्होंने कहा कि लालू का राजनीति में समय खत्म हो गया है और भाई-भाई में बंटबार तो होना ही है. साथ ही उन्होंने कहा कि राजद में लालू परिवार के इतर वही नेता रहा सकता है, जो लालू परिवार के सामने सलामी देता हो.

नवल किशोर यादव ने लालू परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि जगदानंद सिंह जैसे बड़े नेता का हाल तो देख ही लिया है. लालू परिवार उसी नेता को पसंद करता है, जो उसके परिवार को जीहजूरी करता हो. इस दौरान उन्होंने महाभरत का प्रसंग को याद दिलाते हुए कहा कि भाई-भाई में बंटबारा तो होना ही है. लालू का राजनीति समय खत्म हो गया है. अब लालू परिवार में महत्वकांक्षी की लड़ाई शुरू हो गयी है. उन्होंने कहा कि महत्वाकंक्षी की लड़ाई में भाई-भाई का महत्वाकंक्षा अलग-अलग है. भाई-बहन के बीच अलग महत्वाकंक्षा है और मां और बेटे के बीच महत्वाकंक्षा अलग है.

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेट तेजप्रताप के करीबी आकाश यादव को राजद के छात्र विंग के अध्यक्ष पद से हटाने के बाद अब राजद में घमासान मचा है. आकाश यादव पर कार्रवाई होते ही तेजप्रताप राजद प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इस बीच उन्होंने आरोप लगाय कि उन्हें और उनके समर्थकों की जान का खतर है.

बात दें कि जगदानंद सिंह को तेजप्रताप यादव द्वारा हिटर कहे जाने पर राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह पार्टी से नाराज थे. इस कड़ी में उन्होंने राजद के कई अहम बैठमें में शामिल नहीं हुए. साथ ही उन्होंने 15 अगस्त को राजद प्रदेश कार्यालय में में झंडात्तोलन भी नहीं किया. इस बीच जब वह 18 अगस्त को पार्टी राबडी़ देवी से मुलाकात करने पहुंची, तो उन्होंने पार्टी में पहुंचते ही सबसे पहले तेजप्रताप यदाव के समर्थक आकाश यादव पर कार्रवाई करते हुए उसे छात्र विंग के अध्यक्ष पद से हटा दिया. इसके बाद तेज प्रताप प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. साथ ही उन्होंने अपने भाई तेजस्वी यादव पर भी कई आरोप लगाये.


Find Us on Facebook

Trending News