भाजपा अध्यक्ष को मिली जमानत लेकिन जेल से बाहर आते ही फिर टूटा कोरोना नियम

भाजपा अध्यक्ष को मिली जमानत लेकिन जेल से बाहर आते ही फिर टूटा कोरोना नियम

DESK. हैदराबाद. कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने के आरोप में 3 दिसम्बर को गिरफ्तार किए गए तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष बी. संजय कुमार को बुधवार को उच्च न्यायालय द्वारा जमानत दे दिया गया. जमानत के बाद संजय करीमनगर जेल से बाहर निकले तो उनके स्वागत में बड़ी संख्या में समर्थकों की भारी भीड़ जुट गई. भीड़ का जोश ऐसा था कि अधिकांश लोग बिना मास्क के ही नजर आए.

अब इसे लेकर ट्विटर पर कई लोगों ने तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष को घेरा है. उनसे कोरोना महामारी के इस दौर में सोशल डिस्टेंस का पालन करने की अपील की है. साथ ही समर्थकों से भी कोरोना के खतरे को देखते हुए अपना और अपने परिवार का ध्यान रखते हुए कोरोना नियमों का पालन करने की लोगों ने अपील की. 

3 जनवरी को संजय कुमार को कोविड -19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. सत्तारूढ़ सरकार के खिलाफ रात भर विरोध प्रदर्शन करने वाले राजनेता को करीमनगर पुलिस ने नाटकीय परिस्थितियों में गिरफ्तार किया, पुलिस ने पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया. संजय कुमार के अलावा 16 भाजपा कार्यकर्ताओं पर भी मामला दर्ज किया गया था. हालाँकि अब संजय कुमार को जमानत मिल गई है. 

इसके पूर्व तेलंगाना के भाजपा प्रमुख संजय कुमार की गिरफ्तारी के विरोध में हैदराबाद पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि ये अब भाजपा के लिए धर्म युद्ध है. उन्होंने कहा कि हम कानून का सहारा लेंगे और अंत तक लोकतांत्रिक तरीके से लड़ाई जारी रखेंगे. भाजपा प्रमुख जगत प्रकाश नड्डा ने सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के तहत तेलंगाना सरकार को सबसे 'अलोकतांत्रिक सरकार' भी बताया. उन्होंने कहा, "पिछले दो दिनों में जो हुआ है वह लोकतंत्र की हत्या है. यह यहां निरंकुशता का एक रूप है. संजय कुमार के साथ हाथापाई की गई और फिर गिरफ्तार कर लिया गया. यह (मुख्यमंत्री) के चंद्रशेखर राव के अलोकतांत्रिक शासन का जीवंत उदाहरण है. तेलंगाना सबसे भ्रष्ट राज्यों में से एक साबित हो रहा है.



Find Us on Facebook

Trending News