सीएम नीतीश के दिल्ली दौरे पर भाजपा ने कसा तंज, कहा विपक्ष को इकट्ठा करना मेढ़क तौलने के बराबर है

सीएम नीतीश के दिल्ली दौरे पर भाजपा ने कसा तंज, कहा विपक्ष को इकट्ठा करना मेढ़क तौलने के बराबर है

PATNA : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द कुमार सिंह ने कहा है कि यूपीए का मतलब होता है उल्टा पुल्टा एसोसिएशन। राजनीति का बेमेल गठबंधन इसी को कहते हैं। जो सत्तालोलुप, अवसरवादी, परिवारवादी पार्टियों और नेताओं का एसोसिएशन है, "यूपीए में कोई ऐसा नेता बचा नहीं जिन्होंने एक दूसरे को ठगा नहीं"। यूपीए में ममता बनर्जी, कांग्रेस पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड, सपा, बसपा, अरविंद केजरीवाल, केसीआर और छोटे छोटे अनगिनत पार्टियां हैं। इनका प्रभाव क्षेत्र कांग्रेस पार्टी को छोड़कर किसी का एक राज्य में या दो राज्य में पार्टियों की सरकार हैं। क्षेत्रीय और अवसरवादी नेताओं और पार्टियों का एकत्रीकरण मेंढक तोलने के बराबर है।


उन्होंने कहा की बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मेंढक तोलने दिल्ली जा रहे हैं। अवसरवादी, परिवारवादी, घोटालेवादी, नेताओं का गठबंधन करने जैसे  बाढ़ में सांप नेवला और बिच्छू एक डाल पर बैठ अपनी जान बचाने के लिए जैसे धारा मे बहता है, उसका उदाहरण पेश करने जा रहे हैं।

अरविन्द ने कहा है कि जो व्यक्ति अपने पार्टी को एकत्र नहीं रख सके। समय-समय पर इनकी पार्टी कई प्रदेशों में टूटती रही। इनके विधायक दूसरे दलों में जाते रहे। और तो और जनता दल यूनाइटेड के सारे बड़े नेता कभी न कभी पार्टी छोड़कर के बाहर गए हैं, फिर पार्टी में वापस आए हैं। यहां तक कि कुछ जनता दल यूनाइटेड के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार के सत्तालोलुपता की राजनीति का शिकार हुए हैं।

लेकिन जब विपक्षी एकत्रीकरण को चल दिए हैं तो इनको अब समझ में आयगा की "शेर पर सवा सेर" भी होता है। अब इनको केसीआर साहब, अरविन्द केजरीवाल साहब, ममता बनर्जी, और राहुल गांधी जैसे बुद्धिमान व्यक्तियों से जब सामना होगा तो इनको समझ में आयगा की विपक्ष एकत्रीकरण क्या है। कहीं ऐसा ना हो कि बिहार के सत्ता से बेदखल करके इनको अपनी दिल्ली वाला घर में स्थापित न कर दे और तब इनको समझ में आएगी कि मेंढक को तौला नहीं जा सकता है। तब इनको समझ में आएगी कि कुर्सीवादी, अवसरवादी, परिवारवादी, घोटालेवादी और अपराधवादियों में कोई नेता नहीं होता है, ये सब सियासी कलाकार होते हैं, जो मतलब के यार होते हैं। वे संपत्ति, कुर्सी, पार्टी और परिवार बचाने के लिए समर्पित रहते हैं।

Find Us on Facebook

Trending News