सुलझ गई ब्लाइंड केस की गुत्थी : पांच माह बाद पुलिस की गिरफ्त में आया हर्ष हत्याकांड का मास्टरमाइंड, हथौड़े से मारकर की थी हत्या

सुलझ गई ब्लाइंड केस की गुत्थी : पांच माह बाद पुलिस की गिरफ्त में आया हर्ष हत्याकांड का मास्टरमाइंड, हथौड़े से मारकर की थी हत्या

SHEIKHPURA : बरबीघा न्यू एरिया मुहल्ले में 18 जुलाई की रात को हर्ष हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। बदमाशों ने हथौड़े से मारकर हर्ष की जान ले ली थी। जबकि, उसकी मां राधिका देवी और पिता विनय सिंह को भी हथौड़े से मारकर अधमरा कर दिया था। यह हत्याकांड अपराध जगत के लिए पूरी तरह ब्लाइंड केस माना जा रहा था।  बरबीघा के हर्ष हत्याकांड की गुत्थी पुलिस ने घटना के 17 दिनों बाद सुलझा लेने का दावा किया था । हत्याकांड में नवादा जिले के शाहपुर थाना के कृष्णपुरी निवासी रोहित कुमार और बिजेंद्र कुमार को पुलिस ने 17 दिनों बाद गिरफ्तार कर लिया था। मृतक हर्ष की मां राधिका देवी का लूटा गया मोबइल भी पुलिस ने आरोपी के घर से बरामद कर किया गया था । हालांकि, हत्याकांड का मास्टर माइंड शाहपुर का आयुष उर्फ प्रथम के अलावा इसकी गांव के बोआ जी, विक्रम और मिट्ठू अब भी पुलिस की पकड़ से दूर था।

18 जुलाई की रात को छह बदमाश उसके के घर के समीप के एक स्कूल में रुके और आधी रात के बाद डकैती करने के लिए रोहित को छोड़कर शेष अन्य छत के सहारे हर्ष के घर में घुस गये। घर के अंदर बदमाशों की पहली भिड़ंत हर्ष से हुई, जिसे हथौड़े से मारकर हत्या कर दी गई। आवाज सुनकर जब हर्ष के माता और पिता कमरे से निकले तो बदमाश इन दोनों पर टूट पड़े। मारपीट कर अधरा करने के बाद राधिका के पहने जेवर, मोबाइल और नकद राशि लेकर भाग गये। घटना के दिन सभी बदमाश हथियावां ओपी के एक गांव में आधा दिन तक रहे और उसके बाद सभी लाग अलग-अलग दिशा में भाग निकले।

मां और पुत्री ने लिये थे आयुष के नाम

गंभीर रूप से घायल मां राधिका देवी और सही सलामत बच निकलने वाली पुत्री खुशी ने पुलिस के समक्ष आयुष का नाम लिया था। एसपी ने कहा कि आयुष की तलाश पहले जिला में किया गया। परंतु, जब यहां उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिला तो जांच का दायरा बढ़ाया गया। शाहपुर थाना में आयुष का रिकार्ड मिला। इसका फोटो निकालकर जब खुशी और राधिका देवी को दिखाया गया तो उन्होंने पहचान लिया। इसके बाद पुलिस ने इसके दोस्तों की तलाश की तो पुलिस को रोहित और बिजेंद्र मिल गये। बिजेंद्र के घर से पुलिस ने राधिका देवी का मोबाइल बरामद किया है। उन्होंने कहा कि मास्टरमाइंड आयुष पीड़ित परिवार को भली भांति जानता है। परंतु, परिवार के लोग आयुष को नहीं जानते हैं। इस मामले में राहित पर पूरे घटना की रेकी करने का आरोप है।

18 जुलाई को दिया गया था घटना को अंजाम

बरबीघा के न्यू एरिया मुहल्ले में 18 जुलाई की रात को हर्ष हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। बदमाशों ने हथौड़े से मारकर हर्ष की जान ले ली थी। जबकि, उसकी मां राधिका देवी और पिता विनय सिंह को भी हथौड़े से मारकर अधमरा कर दिया था।

Find Us on Facebook

Trending News